अधिकारी संजीवने सीताजी और हनुमानजीको लेकर कहा यह निकृष्ट कथन !


जुलाई ७, २०१८

गुजरातके निलम्बित आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट एक बार फिर से विवादमें घिर गए हैं । इस बार उन्होंने हनुमानजीका बहुचर्चित चित्रका सन्दर्भ देते एक टिप्पणी की । इसके पश्चात उनके ‘ट्विटर’पर लोगोंने उनका बहुत उपहास किया; यद्यपि इसके पश्चात संजीव भट्ट फिर से ‘ट्विटर’पर उनका उत्तर देते हुए बोले कि उन्हें उनकी बातोंसे कोई अन्तर नहीं पडता है; लेकिन इस प्रकरणमें ये विवाद बढता जा रहा है ।

संजीव भट्ट गुजरात कैडरके १९८८ वर्गके आईपीएस अधिकारी हैं । २०११ में वह निलम्बित करदिए गए । वह मोदी शासनके विरुद्ध अपने लेखोंके कारण विवादोंमें रहते हैं । अब उन्होंने हनुमानजीका एक चर्चित चित्रका सन्दर्भ देते हुए लिखा – ‘क्या सीता इन हनुमानके साथ अपने आपको सुरक्षित महसूस करतीं ?’ उनके इस ‘ट्वीट’के पश्चात उनपर लोगोंका क्रोध फूट पडा !

उपभोक्ताओंने कहा, एक मां अपने पुत्रके साथ सदैव सुरक्षित होती है । कुछने संजीव भट्टके विरुद्ध कठोर वैधानिक कार्रवाईकी भी मांग की । पत्रकार मानक गुप्ताने इसका उत्तर देते हुए लिखा – ‘लंकाको भेद कर सीता माताको सुरक्षित करनेके लिए ‘इसी हनुमान’की आवश्यकता थी । सीताजीने कैसा अनुभव किया ?, ये ‘ट्विटर’पर नहीं, रामायण पढकर या उसकी चलचित्र श्रृंखला देखकर पता चलेगा ! हनुमानजीका यह रौद्र रूप रावण जैसे राक्षसोंको भयभीत करनेके लिए था । आपको डर क्यों लग रहा है ?’

संजीव भट्ट २०१५ में निलम्बित कर दिए गए थे ! उनकी पत्नी केशूभाई पटेलके दलसे एक बार भाजपाके विरुद्ध मतदान भी लड चुकी हैं; लेकिन वह पराजित हो गई थीं । २००२ उपद्रव प्रकरणमें प्रधानमन्त्री मोदीके विरुद्ध बोलने वाले भट्ट प्रायः भाजपा और मोदीके विरुद्ध ‘ट्वीट’ और वक्तव्य देते रहते हैं ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution