एक व्यक्तिने कहा, "मेरी बहन अनेक शारीरिक रोगोंसे ग्रसित होनेके कारण उनका मन शान्त नहीं रहता है; इसलिए वे नामजप नहीं कर पाती हैं, क्या मैं उनके लिए जप कर सकता हूं ?


उत्तर : “आप अवश्य ही जप कर सकते हैं; किन्तु यदि आपका आध्यात्मिक स्तर ६० % से अधिक न हो तो पर-प्रारब्धके भोग, भोगने पड सकते हैं अर्थात आपकी बहनको होनेवाले कष्ट आपको होनेकी सम्भावना हो सकती है या उन्हें कष्ट देनेवाली अनिष्ट शक्ति आपको कष्ट दे सकती है; अतः उन्हें अपने घरमें नामजपकी ध्वनिचक्रिका (सीडी) चलाने हेतु कहें, वे बैठकर जप नहीं कर सकती हैं तो उठते-बैठते, चलते-फिरते जप करने हेतु कहें एवं वे अन्य आध्यात्मिक उपाय जैसे नमक पानीका उपाय, ‘सनातन संस्था’ निर्मित इत्र, उदबत्ती, कपूरका प्रयोग करने हेतु कह सकते हैं, जिससे उनके मनका आवरण नष्ट हो एवं वे जप आरम्भ कर सकें; किन्तु ये सब नामजप करने हेतु सहायक सिद्ध हो सकते है, नामजपके पर्याय नहीं हैं, नामजप औषधि है, उसे स्वयं किए बिना कल्याण सम्भव ही नहीं !”



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution