उच्चतम न्यायालयने पटाखे जलानेका समय निर्धारित किया


अक्तूबर २४, १०१८

उच्चतम न्यायालयने देश पटाखे फोडनेका समय निर्धारित कर दिया है । उच्चतम न्यायालयने अपने निर्णयमें कहा कि ऐसे पटाखे फोडे और विक्रय किए जाएं, जो कम प्रदूषण करते हों । इसके अतिरिक्त पटाखे रात्रि ८ बजे से लेकर १० बजे तक ही फोडें ! तीन न्यायाधीशोंकी खण्डपीठने कहा कि क्रिसमस, न्यू ईयर, गुरुपर्व और विवाह जैसे अवसरपर भी कुछ देरके लिए आतिशबाजी की जा सकती है । अधिक प्रदूषण करने वाले और तीव्र ध्वनि करने वाले पटाखोंके विक्रय और फोडनेपर प्रतिबन्ध रहेगा । इसपर भाजपा सांसद चिंतामणि मालवीयने कहा कि हिन्दू पंचांगके अनुसार हमारे धर्म परम्पराओं और त्यौहारोंका पालन किया जाता है । मैं पहले पूजा करुंगा उसके पश्चात ही पटाखे फोडूंगा । हम त्यौहारोंपर समय सीमा निर्धारित नहीं कर सकते हैं, ऐसे प्रतिबऩ् मुगल कालमें भी नहीं थे । यह अस्वीकार्य है ।

आपको बता दें कि पेट्रोलियम तथा विस्फोटक सुरक्षा संगठन (PESO) सुनिश्चित करेगा कि निर्धारित स्तरसे अधिक ध्वनि वाले पटाखे न विक्रय किए जाएं । ‘पेसो’ निर्धारित स्तरसे अधिक ध्वनि वाले पटाखोंके निर्माता और विक्रेताका अनुमति-पत्र (लाइसेंस) निरस्त कर सकता है । क्रिसमस और नव वर्षके अवसरपर रात्रि ११.५५ से १२.३० तक ही पटाखे फोडे जा सकते हैं । केन्द्र और राज्य सामुदायिक आतिशबाजीको बढावा देनेके ढंग खोजे ताकि अधिक प्रदूषण न हो । इसके लिए विशेष स्थान पहले से निर्धारित किए जाएं ।

उच्चतम न्यायालयने पहले कहा था कि प्रतिबन्धसे सम्बन्धित याचिकापर विचार करते समय पटाखा उत्पादकोंके आजीविकाके मौलिक अधिकार और देशके १.३ अरब लोगोंके स्वास्थ्य अधिकार सहित विभिन्न पहलुओंको ध्यानमें रखना होगा ।  न्यायालयने कहा कि संविधानके अनुच्छेद २१ (जीवनके अधिकार) सभी वर्गके लोगोंपर लागू होता है और पटाखोंपर देशव्यापी प्रतिबन्धपर विचार करते समय सन्तुलन बनाए रखनेकी आवश्यकता है ।

 

“हिन्दुओ ! रज-तम प्रधान धुुुएं व देेेवताओंंकेे चित्र वाले पटाखोंंसे त्यौहारोंमें सात्विकता नष्ट होती है और साथ ही देेवताओंकी विडम्बना कर पापके भागी होते हैं; अत: देव-पूजन, घी- तेलके दीपक व रंगोली आदिकी देवपद्धति अपनाएंं, जिससे देवकृपा प्राप्त हो !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution