आजकी राजनीतिका सत्य, १० वर्षों पूर्व फलोंकी दुकान लगानेवाला बसपा नेता इकबाल बना अरबपति, निदेशालयने पकडा !


अप्रैल २५, २०१९


   
बहुजन समाज पार्टीके पूर्व एमएलसी और खनन माफिया मोहम्मद इकबालके विरुद्घ प्रवर्तन निदेशालयने (ईडीने) ‘मनी लॉन्ड्रिंग’के अन्तर्गत एक और अभियोग प्रविष्ट किया है । बताया जा रहा है कि इकबालने १०० से अधिक फर्जी कम्पनियां बनाकर उनमें अपने अवैध धनको इधरसे उधर किया है ।

सूत्रोंकी मानें तो इकबालने इन कम्पनियोंकेद्वारा अरबोंके अवैध धनका हेर-फेर किया है । जांचमें यह भी उजागर हुआ है कि इकबालकी पूर्व मन्त्री बाबू सिंह कुशवाहासे गहरी साठगांठ थी । बाबू सिंह कुशवाहा ‘एनआरएचएम’ घोटालेमें आरोपी हैं । बाबू सिंह कुशवाहाकी जांचके समय ही मोहम्मद इकबाल निदेशालयके लक्ष्यपर आया । वर्तमानमें निदेशालयके अतिरिक्त कई अन्य जांच विभाग भी इकबालके बारेमें जांच कर रहे हैं ।

इकबालके विरुद्घ ‘सेव इंडिया ग्रुप’ नामकी संस्थाने भिन्न-२ विभागोंमें परिवाद की है । इस संस्थाने इकबालसे जुडे कई साक्ष्य भी सौंपे हैं । उन्हींके आधारपर विभाग अपने ढंगसे जांच कर रही हैं । ‘सेव इंडिया ग्रुप’ने आरोप लगाया है कि इकबालने देहली समेत कई नगरोंमें ११५ से अधिक शैल कंपनियां खोली और उसने इन कम्पनियोंमें कोटि रुपयोंके अवैध धनका निवेश किया । जब विभागने जांच आरम्भ की तो ज्ञात हुआ कि अधिकतर शैल कंपनियोंमें इकबालके निकटवर्ती, नौकर, खानसामा व चालक संचालक (डायरेक्टर) हैं !!

लगभग १० वर्ष पूर्व सहारनपुरमें फलोंकी दुकान लगानेवाला मोहम्मद इकबाल १० वर्षोंमें अरबोंका स्वामी बन गया, यह चमत्कार तो भारतीय राजनीतिका ही है । यूं ही यहां विधायक, सांसद आदि बननेके लिए लोग एक-दूसरेके प्राणोंकी भी चिन्ता नहीं करते हैं और समूचे अनैतिक कृत्य करते हैं । भारतीय राजनीतिमें इस अनैतिकता और लालचने ही छोटे-२ दलोंको जन्म दिया; परन्तु वे छोटे-२ दल ही अपने-२ राज्योंको जोंककी भांति चिपककर नष्ट कर देते हैं । उत्तरप्रदेश जैसे अनेक राज्योंका उदाहरण इसे सिद्ध भी करता है । अब इस स्थितिको परिवर्तित करनेके लिए हिन्दू राष्ट्रकी ही आवश्यकता है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : पर्दाफाश



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution