संकटमें कमलनाथ शासन, बीएसपी विधायकने दी मन्त्री न बनानेपर दी चेतावनी !


जनवरी २३, २०१९

मध्य प्रदेशमें कांग्रेस सबसे बडे दलके रूपमें उभरी; परन्तु बहुमतसे दो सीट पीछे रह गई । बीएसपी और एसपीने कांग्रेसको समर्थन देनेका निर्णय किया और राज्यमें कमलनाथका शासन बन गया; परन्तु बैसाखीपर चल रहे शासनके लिए संकट बना हुआ है । गत दिनों मायावतीने स्पष्ट शब्दोंमें कहा था कि बीएसपी कार्यकर्ताओंपर से राजनीतिक अभियोगोंको नहीं हटाया गया तो वो समर्थनके बारेमें विचार करना पडेगा; परन्तु इस बार बीएसपी विधायकके विरोधी सुर सुनाई पड रहे हैं । बीएसपी विधायक रमाबाई अहिरवारका कहना है कि पार्टी ये नहीं चाहती है कि मध्य प्रदेशमें कर्नाटक जैसा स्थिति बने ।


उन्होंने कहा कि यदि कमलनाथ शासन उन्हें मन्त्री नहीं बनाती है तो वो न केवल उनका विरोध होगा, वरन दूसरोंका भी विरोध होगा । यही वो कांग्रेसको सशक्त बनानेकी दिशामें आगे बढ रहे हैं तो उन्हें हम लोगोंको सशक्त बनानेपर ध्यान देना होगा । कमलनाथ शासनको उन्हें मंत्रीका पद देना चाहिए ।

रमाबाई अहिरवार आगे कहती हैं कि बहन जी अर्थात बीएसपी मुखिया मायावतीके समर्थनसे कांग्रेस सत्तामें है । हम कमलनाथ शासनमें बीएसपीके दोनों विधायकोंके लिए मन्त्री पदकी मांग करते हैं । हम लोगोंने कर्नाटकका चित्रको देखा है, हम नहीं चाहते हैं कि कुछ उसप्रकारकी स्थिति यहां भी बने ।

 


“यह है आजकी राजनीतिका कटु सत्य ! सभी केवल खाने-खिलाने हेतु ही राजनीतिमें प्रवेश करते हैं । स्पष्ट है कि बीएसपी विधायक कोई देशप्रेमके लिए तो पद मांग नहीं रही हैं, अन्योंकी भांति वे भी राजनीतिक मलाई एकत्रित करना चाहती हैं; परन्तु असत्य और अधर्मपर टिके शासनके साथ यही होना उचित है; परन्तु राजनीतिमें फैले इस कचरेको दूर करनेके लिए अब केवल हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना ही अनिवार्य है ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : न्यूज १८



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution