बुर्केपर प्रतिबंध लगानेके पश्चात ‘मुस्लिम एजुकेशन सोसाइटी’के अध्यक्षको मिली मारनेकी चेतावनी !


मई ४, २०१९


केरलमें ‘मुस्लिम एजुकेशन सोसाइटी’के अध्यक्ष डॉ. पीए फजल गफूरको अज्ञात व्यक्तिने भ्रमणभाषपर मारनेकी चेतावनी दी । गफूरने एक दिवस पूर्व ही अपने शिक्षण संस्थानोंमें छात्राओंके बुर्का पहननेपर रोक लगाई थी । गफूरने पुलिस थानेमें प्राथमिकी (एफआईआर) प्रविष्ट कराई है । उन्होंने परिवादमें बताया कि आरोपीने शुक्रवारको अन्तर्राष्ट्रीय भ्रमणभाष क्रमांकसे अपशब्द कहते हुए मारनेकी चेतावनी दी ।


‘मुस्लिम एजुकेशन सोसाइटी’की स्थापना १९६४ में हुई थी । आज इसके ३५ महाविद्यालय और ७२ विद्यालय चलते हैं । अध्यक्ष गफूरने २ मईको एक अधिसूचना जारी की । इसके अन्तर्गत सभी महाविद्यालय और विद्यालयोंमें बुर्केपर प्रतिबन्ध लगाया गया । यह अधिसूचना सभी सम्बन्धित संस्था प्रमुख और अधिकारियोंको जारी की गई थी ।

अध्यक्ष गफूरने शैक्षणिक वर्ष २०१९-२० से इस आदेशपर ध्यान देनेके निर्देश दिए थे । इसमें विद्यार्थियों, अध्यापकों और कर्मचारियोंको भी इस आदेशका पालन करना अनिवार्य था । उन्होंने कहा कि इस्लामका अनुसरण करना अनुचित नहीं; परन्तु मध्यकालकी इस्लाम पद्धतियोंका अनुसरण उचित नहीं है ।

अध्यक्षका यह आदेश उस समय आया था, जब शिवसेनाने भी अपने मुखपत्र ‘सामना’में देशकी सुरक्षाको लेकर बुर्केपर प्रतिबन्ध लगानेकी मांग की थी । इसमें श्रीलंकामें ईस्टरके दिन हुए विस्फोटका भी वर्णन किया था ।

 

“इस्लामकी ये परम्पराएं जितनी सडी और गली मध्यकालमें थी, उससे भी अधिक आज है । बलपूर्वक निराधार प्रथाओंको ढोया जा रहा है और जो बाहर आना चाहते हैं, उन्हें विषैले जिहादी बाहर नहीं आने देना चाहते हैं; परन्तु इन परम्पराओंको अब अधिक नहीं ढोया जा सकता है; क्योंकि अब धीरे-२ मुस्लिम महिलाओंका भी विवेक जागृत होने लगा है और वे भी इससे मुक्ति चाहती हैं ! सभी सभ्य और बुद्धिजीवि मुसलमानोंने इस असभ्य परम्पराके विरुद्ध मुखर होकर बोलना चाहिए !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ


स्रोत : भास्कर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution