‘चाइल्ड पोर्नोग्राफी’के १०० राष्ट्रोंसे जुडें है सम्बन्ध, ७६ जनपदोंमें ‘सीबीआई’के छापे 


१८ नवम्बर, २०२१
                ‘चाइल्ड पोर्नोग्राफी’को लेकर ‘सीबीआई’ने बडी कार्यवाही की है । देशके १४ प्रदेश व केन्द्र शासित प्रदेशोंके ७६ जनपदोंमें जांच अभिकरणोंने (एजेंसियोंने) छापेमारी की है । इसके अन्तर्गत २० लोगोंको बन्दी बना लिया गया है । वहीं ‘सीबीआई’ने २३ पृथक-पृथक प्रकरणोंमें आरोपियोंके विरुद्ध अभियोग भी प्रविष्ट किया है । ‘मीडिया’ प्रतिवेदनके अनुसार, ‘सीबीआई’की छापेमारी आंध्र प्रदेश, देहली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार एवं अन्य राज्य में हुई । छापेमारीके मध्य ओडिशाके ढेनकनाल नामक जनपदमें तो ‘सीबीआई’पर आक्रमण भी किया गया । स्थानीय ‘पुलिस’ने इस प्रकरणसे ‘सीबीआई’को किसी प्रकार बचाया । वहीं छापेमारीके मध्य यह तथ्य भी उजागर हुआ है कि जो व्यक्ति यह कुकर्म कर रहे हैं, वह आपत्तिजनक सामग्रीको साझा करनेके लिए विभिन्न ‘वेबपेजों’का आश्रय लेतें है । अबतक की जांचके अनुसार, पाकिस्तानमें ३६, बांग्लादेशमें ३०, मलेशियामें २३ व अन्य अनेक देशोंमें अनेक संदिग्ध इस प्रकरणमें संलिप्त पाए गए हैं । उल्लेखनीय है कि ‘इंटरपोल’के प्रतिवेदनके अनुसार २०१७ से २०२० के मध्य इन ३ वर्षोंमें भारतमें यौन उत्पीडनका लक्ष्य बने २४ लाखसे अधिक बच्चोंके प्रकरण उजागर हुए हैं, इसमें ८०% बच्चोकी आयु १५ वर्षसे अल्प है ।
       समाजमें धर्मके अभावके कारण ही आज भारतीय वासनाओंमें संलिप्त होते जा रहे हैं । ऐसे विचारोंको त्यागने हेतु साधनाको ही प्रधानता देनी चाहिए । हिन्दुओं साधनामें इतनी शक्ति है कि हम इसके बलसें किसी भी व्यसनको पूर्णतः त्याग सकते हैं । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution