उत्तिष्ठ कौन्तेय !


चीनने भारतकी सीमामें घुसकर बंकर तोडे !
पाकिस्तानके पश्चात् अब चीनने भी भारतकी सीमामें अतिक्रमण कर, बंकर तोडे हैं । प्राप्त समाचारोंके अनुसार चीनको और अधिक भीतरी सीमामें आनेसे रोकने हेतु भारतीय सैनिकोंको अत्यधिक प्रयास करने पडे । जबतक हम तथाकथित अहिंसाके पुजारी बने रहेंगे हमारे पडोसी राष्ट्र इसीप्रकार दुस्साहस करते रहेंगे; अतः अंग्रेजीकी एक कहावत है न attack is the best form of defence , इस सिद्धान्तके पालन करनेका समय आ गया है और ईंटका प्रत्युत्तर अब पत्थरसे देकर इन शत्रुओंको धुल चटानी होगी । इस हेतु क्षत्रिय वृत्तिवाले राजनेताओंका होना आवश्यक है जो मात्र हिन्दू राष्ट्रके अस्तित्वमें आनेसे ही सम्भव होगा । अभीके राज्यकर्ताओंकी प्रवृत्ति वैश्योंवाली है; अतः वे मात्र राष्ट्रके एकांगी विकासकी (बाह्य विकास) बात करते हैं,  वैश्य वृत्तिसे देशका रक्षण सम्भव नहीं है ! आपको बता दें, एकांगी विकास इस विशेषणका प्रयोग इसलिए मैंने किया है क्योंकि राष्ट्रका खरा विकास उसकी प्रजाद्वारा आत्मिक विकास हेतु किए जानेवाले प्रयत्नोंसे होता है | (२७.६.२०१७)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution