सबरीमालामें महिलाओंके प्रवेशका विरोध करनेवाली कांग्रेसका मुखौटा उतरा, ३८ वर्षीय कांग्रेस कार्यकर्ताने असत्य बोलकर सबरीमालामें किए दर्शन !!


जनवरी १०, २०१९

केरलकी ३६ वर्षीय महिलाने बुधवार, १० जनवरीको दावा किया कि वह सबरीमला मंदिरमें गई थी और भगवान अयप्पा मन्दिरमें प्रार्थना की ! मुख्यमन्त्री कार्यालय और पुलिसने दलित महिला कार्यकर्ताके इस दावेका खण्डन किया कि वह मंगलवारको मंदिर गई थीं ।

चतन्नूरकी रहने वाली मंजूने ‘फेसबुक’पर लेख लिखकर दावा किया कि उसने मंगलवारको भगवानके सामने प्रार्थना की और किसी भी भक्तने विरोध नहीं किया । महिलाने लिखा है कि उसने एक ५० वर्षीय वृद्धा महिलाके वेशमें मंदिरमें दर्शन किए ! उसने इसका एक चित्र भी साझा किया है ।

महिलाने दावा किया कि मैंने मंदिर परिसरमें लगभग दो घंटे व्यतीत किए । मैंने ‘अखिल भारत अयप्पा सेवा संगम’के सदस्योंसे सहायता मांगी, जिन्होंनें प्रार्थनामें सहायता की । दो जनवरीको पुलिस कर्मियोंके सुरक्षा घेरेमें दो महिलाओंके मंदिरमें प्रवेश करनेके पश्चात राज्यमें हिंसक विरोध-प्रदर्शन हुए थे । मंजू उन्हीं २० राजनीतिक महिलाओंमेंसे एक है, जिसने गत वर्ष अक्तूबरमें मंदिरमें प्रवेश करनेका प्रयास किया था; परन्तु भीतर नहीं जा पाई ।

 

“मंजू एक कांग्रेस कार्यकर्ता है और कांग्रेस सबरीमालापर महिलाओंके प्रवेशके विरोधका दिखावा करती रही है, इससे ही कांग्रेसका वास्तविक रूप उजागर होता है और मंजू सदृश निधर्मी महिलाएं सोचती हैं कि विद्वानोंद्वारा बनाए नियमोंका अपनी अल्पबुद्धिसे प्रतिकारकर, तथाकथित समानताके सिद्धांंतको मानकर वे ईश्वरकी कृपा प्राप्त करेंगीं ? ईश्वरके उन नियमोंको तोडकर, जिनसे समष्टिकी हानि हो, व्यक्ति कृपाका नहीं वरन दण्डका पात्र बन जाता है, यह सभी तथाकथित समानताकी पक्षधर महिलाएं ध्यान रखें ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

 

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution