देव स्तुति


मन्त्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं सुरेश्वर

यत्पूजितं मयादेव परिपूर्णं तदस्तु मे ।

अपराध सहस्राणि क्रियन्तेऽहर्निशं मया

दासोऽयं इति मां मत्वा क्षमस्व पुरुषोत्तम ।।

अर्थ : हे देवाधिदेव ! न मन्त्रोंका उच्चारण आता है, न योग्य प्रकारसे कर्मकांडकी कृति(क्रिया) ही कर पाता हूं, न ही भक्ति है, हे प्रभु जब भी मैं आपकी पूजा करूं, आप ही मुझे योग्य दिशा देकर मुझे परिपूर्ण करें । हे पुरुषोत्तम, दिवस और रात्रि मेरेद्वारा सहश्रों चूक हो जाते हैं तब भी इस दासको क्षमा करें, हम आपके शरणागत हैं !



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution