धर्मपालन ही पापकर्म रोकनेका एकमात्र उपाय


किसी भी देशका कठोरसे कठोर विधान (कानून) भी वहांकी प्रजाको अधर्म करनेसे नहीं रोक सकता है; मात्र और मात्र धर्मनिष्ठ प्रजा ही अपराधसे दूर रहती है; अतः प्रजाको धर्मनिष्ठ करना, अपराधोंको न्यून करनेका सर्वाधिक स्थायी उपाय है, जो इस देशके निधर्मी शासनकर्ताओंकी तामसिक बुद्धिको आजतक समझमें नहीं आया है ।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution