‘टूलकिट’ विषयमें २१ वर्षीय दिशाको बेंगलुरुमें पकडा


१७ फरवरी, २०२१
    किसान आन्दोलनकी आडमें भारतके विरुद्ध रचे गए षड्यन्त्रको सिद्ध करनेवाले लिखितपत्र ‘टूलकिट’ विषयमें देहली पुलिसकी ‘साइबरक्राइम स्पेशल सेल’ने शनिवार, १३ फरवरीको युवा कथित पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रविको सोलादेवानहाली स्थित उसके घर बेंगलुरुसे बन्दी बना लिया ।
     ‘फ्राइडेज फॉर फ्यूचर’ जलवायु परिवर्तनके विषयपर कार्य करनेवाले वैश्विक अभियानकी संस्थापक छात्रा दिशा रविपर आरोप है कि उसने  ‘सोशल मीडिया’ माध्यमोंपर ‘टूलकिट’का प्रसार किया था ।
देहली पुलिसकी ‘साइबरक्राइम स्पेशल सेल’ने ४ फरवरीको इस विषयमें ‘आईपीसी’की ‘धारा १२४ ए, १२०ए और १५३ए’के अन्तर्गत प्राथमिकी प्रविष्ट की थी । जो देशद्रोह, आपराधिक षड्यन्त्र और समूहोंके मध्य ईर्ष्या फैलाने सम्बन्धी ‘टूलकिट’के निर्माताओंके विरुद्ध प्रविष्ट थी ।
         भारतीय शासनद्वारा सभी आरोपियोंके विरुद्ध कठोर कार्यवाही करते हुए उचित दण्ड दिया जाना चाहिए; क्योंकि, इन्होंने देशमें हिंसा फैलानेका अनुचित कृत्य किया है । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution