धर्मान्ध हसन खानने गरबा खेलकर लौट रही ११ वर्षीय बालिकासे दुष्कर्म किया !


अक्तूबर १९, २०१८

मुम्बईके साकीनकामें गरबा खेलकर घर वापस आ रही ११ वर्षकी एक अव्यस्क (नाबालिग) बच्चीके साथ टेम्पो चालकने दुष्कर्म किया है । यह घटना मंगलवार, १६ अक्तूबरकी रात्रिको हुई थी, जब पीडित और उसका ११ वर्षीय मित्र गरबा खेलकर घर वापस आ रहे थे । प्रकरणकी पुलिसमें प्राथमिकी प्रविष्ट की गई और उसके पश्चात पुलिसने आरोपीको तत्काल ढूंढना आरम्भ कर दिया । आरोपी सिराज मेहदी हसन खानको जैसे ही इस बारेमें ज्ञात हुआ तो उसने बचनेके लिए अपने लम्बे बाल भी काट दिए थे,लेकिन पुलिसने २४ घंटेके भीतर आरोपीको उसके साकीनाका वाले अपने घरसे बन्दी बना लिया ।

पुलिसने आरोपीका चलभाष यन्त्र (मोबाईल) भी ले लिया है । बलात्कारसे पूर्व, उसने पीडित नाबालिग बच्चीके चित्र भी अपने चलभाषमे ली थीं । पीडित लडकी और उसका ११ वर्षका एक मित्र अपने घरसे कुछ दूरीपर आयोजित एक डांडिया कार्यक्रममें गरबा खेलनेके लिए गए थे । पीडित लडकी सातवीं कक्षामें है । आरोपीके पास पूर्णकालिक नौकरी नहीं थी, इसलिए वे एक टेंपो चालकके रूपमें कार्य करता था ।  घटनाके दिन आरोपीने मादक पदार्थोंका सेवन भी किया था ।
गरबा खेलकर वापिस आ रहे दोनों बच्चोंका आरोपीने पहले पीछा किया और जैसे दोनों एक निर्जन स्थान पहुंचे तो आरोपीने पीडितके मित्रपर प्रहार किया ! एकाएक हुए प्रहारसे भयभीत लडका वहांसे भाग निकला । उसके पश्चात् लडकीको पकडकर आरोपीने उसके साथ दुष्कर्म किया ।

जब पीडिता घरपर आई तो उसके पश्चात् उसने अपनी मांको इस घटनाके बारेमें बताया । इसके पश्चात लडकीकी मां पीडिताको लेकर सीधे पुलिस थाने चली गई । उसके पश्चात् पुलिसने प्रकरण प्रविष्ट किया । पीडिताने कहा, “मेरे साथ जो हुआ उससे मैं बहुत भयभीत हो गई थी, परन्तु मैं जैसे-तैसे घर पहुंची । उस आदमीने मुझे चेतावनी भी दी थी और उसने मेरे मित्रको मारते हुए वहांसे निकल जानेके लिए कहा ।”

पीडित लडकीद्वारा दी गई जानकारीके आधारपर पुलिसने आरोपीको बुधवार, १७ अक्तूबरको बन्दी बना लिया । धारा ३७६, ३७७ के अन्तर्गत आरोपीके विरुद्घ प्रकरण प्रविष्ट किया गया है । इस प्रकरणमें पुलिसने सिराज सहित १६ लोगोंको बन्दी बनाया था ।

स्रोत : टाइम्स नाउ न्यूज हिन्दी



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution