किसानोंने लगाया राहुलपर भूमि हडपनेका आरोप, कहा, ‘इटली वापस जाओ’ !


जनवरी २४, २०१९

 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार, २३ जनवरीको लोकसभा मतदानके लिए प्रचार करने अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी गए थे । इस मध्य एक ओर जहां वो प्रचारमें लगे हुए थे तो वहीं दूसरी ओर कुछ लोग राहुल गांधीके विरुद्घ प्रदर्शन करते हुए दिखे । वास्तवमें ये लोग अमेठीके किसान थे, जो कांग्रेसपर उनकी भूमि छीननेका आरोप लगा रहे थे ।

प्रदर्शन कर रहे किसानोंने बताया कि उन्होंने अपनी भूमि ‘राजीव गांधी फाउंडेशन’को दी थी । उनकी मांग है कि या तो उनकी भूमि उन्हें वापस की जाए या उन्हें कार्य (रोजगार) दिया जाए ।

विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानोंमेंसे एक संजय सिंहने कहा, “हम राहुल गांधीसे निराश हैं । उन्हें इटली वापस चले जाना चाहिए । वो यहां रहनेके योग्य नहीं है । उन्होंने हमारी भूमि छीनी है ।

१९८० में जैन भाईयोंने कौसरके उद्योगीय क्षेत्रमें ६५.५७ एकडकी भूमि ली थी । वो यहां एक उद्योग चलाना चाहते थे; परन्तु परियोजना विफल हो गई, जिसके पश्चात २०१४ में भूमिकी नीलामी हो गई । नीलामीमें क्रय की गई भूमिका भुगतान १,५०,००० रुपएके मुद्रांक शुल्कपर (स्टांप ड्यूटी) ‘राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट’की ओरसे  किया गया । बादमें ‘यूपीएसआईडीसी’ने इस नीलामीको अमान्य कर दिया, जिसके पश्चात गौरीगंज न्यायालयने आदेश दिया कि इस भूमिको ‘यूपीएसआईडीसी’को सौंप दिया जाए । तबसे पत्रोंमें तो ये भूमि ‘यूपीएसआईडीसी’के पास है; परन्तु ‘राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट’के अधिकारमें हैं ।


“समूचे देशमें राहुल गांधी किसानोंके समर्थनमें बोलनेका ढोंग कर रहे हैं और अमेठीमें वहीं किसानोंकी भूमिपर अधिकार कर बैठे हैं । यह दोहरा मापदण्ड ही कांग्रेसकी वास्तविकता है । यद्यपि किसानोंकी सबसे अधिक बुरी स्थिति कांग्रेसने ही की, तथापि आज अन्य राज्योंमें झूठे चुनावी वचनोंके जालमें फंसकर किसान कांग्रेसको वोट करके आए व परिणाम समक्ष है ! यह सब किसानोंके लिए शिक्षाका समय है । यदि सभी पूर्वमें हुए प्रकरणसे बोध लेंगें तो राहुल गांधी इटली तो स्वतः ही चले जाएंगें ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution