भीख मांग रहे पूर्व सैनिकके लिए गौतम गंभीरकी प्रार्थनापर रक्षा मन्त्रालयने दिया आश्वासन !


जनवरी २, २०१९


भारतीय सेनाके लिए हृदयमें विशेष स्थान रखनेवाले भारतके पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर इसबार एक पूर्व सैनिककी सहायताके लिए आगे आए हैं । गम्भीरके कारण अब उस व्यक्तिको सेनासे सहायता मिल सकती है, जो समयसे अटकी हुई थी । शनिवार, २ जनवरीको गम्भीरने एक व्यक्तिका चित्र ट्वीट करके बताया कि वह पूर्व सैनिक हैं और सहायता न मिलनेके चलते उन्हें भीख मांगनेपर विवश होना पडा । इसके पश्चात रक्षा मंत्रालयने व्यक्तिकी सहायताका विश्वास दिया है ।

गंभीरने व्यक्तिका चित्र पोस्ट करते हुए साथमें लिखा, ‘यह हैं पीताम्बरन, जिनकी आईडी देखकर ज्ञात होता सकता है कि उन्होंने १९६५ और १९७१ में भारतीय सेनामें सेवा की । उनका कहना है कि तकनीकी कारणो़से सेनासे जो उन्हें सहायता मिलनी थी, वह अटक गई । मैं इनकी सहायताकी मांग करता हूं । यह ‘कनॉट प्लेस’के ‘ए ब्लॉक’पर भीख मांग रहे हैं ।’

इसपर रक्षा मंत्रालयसे उत्तर आया । सहायताका आश्वासन देते हुए रक्षा मन्त्रालयके प्रवक्ताके आधिकारिक ‘ट्विटर हैंडल’से लिखा गया, “हम आपकी ओरसे इस बातको उठानेकी प्रशंसा करते हैं और आश्वासन देते हैं कि शीघ्रातिशीघ्र प्रत्येक आवश्यक पग लिया जाएगा ।’

 

“माना गया है कि क्रिकेट एक ऐसा खेल है, जिसने राष्ट्रीयताको नष्ट करनेका सबसे बडा कार्य किया है और केवल मादकता, फुहडता व संस्कारहीनताका प्रचार करनेवाले लोग ही इस राष्ट्रको दिए है; परन्तु अपवाद प्रत्येक स्थानपर हैं और गौतम उन्हींमेंसे एक है । सेना व राष्ट्रके प्रति इनकी निष्ठा प्रशंसनीय है; परन्तु जक प्रश्न उठता है कि देशको लूटनेवाले भ्रष्ट नेताओंको हम सत्ताच्युत करनेके पश्चात भी बडे भवन देते हैं तो सैनिकोके प्रकरणमें ऐसी चूके क्यों हो जाती है ? इस प्रश्नका उत्तर आप सभी स्वयं विचार करें ! ”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution