घरका वैद्य : अदरक (भाग-७)


* वमन : इसके १० ग्राम रसमें, १० ग्राम ‘प्याज’का रस मिलाकर पिलानेसे लाभ होता है ।

* बहुमूत्र : इसके २ चम्मच रसमें मिश्री मिलाकर, प्रातः एवं सायं सेवन करनेसे लाभ होता है ।

* अर्शजनित वेदना : दुरालभा और पाठा, बेलका गूदा और पाठा, अजवाइन व पाठा अथवा सोंठ और पाठा, इनमेंसे किसी एक योगका सेवन करनेसे अर्शजनित वेदनाका शमन हो    जाता है ।

* मूत्रकृच्छ्र : सोंठ, कटेलीकी जड, बला मूल, गोखरू, इन सबको २-२ ग्रामकी मात्रामें तथा १० ग्राम गुडको, २५० ग्राम दूधमें उबालकर प्रातः एवं सायं पीनेसे मल-मूत्रकी रुकावटका, ज्वरका तथा शोथका नाश होता है ।

* अण्डकोषवृद्धि : इसके १० से २९ ग्राम स्वरसमें दो चम्मच मधु मिलाकर पीनेसे वातज अण्डवृद्धि मिटती है ।

* कामला : अदरक, त्रिफला और गुडको एक करके देनेसे कामला मिटता है ।

* अतिसार :

सोंठ, खस, विलगिरी मोथाधा, धनिया, मोचरस तथा नेत्रबालाका क्वाथ अतिसार नाशक तथा पित्त-कफज्वर नाशक है ।

धनिया १० ग्राम, सोंठ १० ग्राम इसका विधिवत क्वाथ करके, रोगीको प्रातः एवं सायं सेवन कराना चाहिए । इसके सेवनसे वातश्लेष्मज्वर, शूल और अतिसार नष्ट होता है ।

सोंठ और इन्द्र जौ, समभाग चूर्णको चावलके पानीके साथ पीनेको दें ! जब चूर्ण पच जाए, तो उसके पश्चात चांगेरी, तक्र और दाडिमका रस डालकर पकाई गई यवागू, अतिसारके रोगीको खानेके लिए दें !



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution