अब धर्मान्ततरणकी लपटें न्यायाधीशोंके घर तक, धर्म नहीं परिवर्तित किया तो पत्नी व पुत्रको गोली मारी !!


अक्तूबर १४, २०१८

गुरुग्राममें एक न्यायाधीशके गनरने उनके कुटुम्बपर भयानक आक्रमण कर दिया । न्यायाधीश तथा उनके कुटुम्बपर हुए इस आक्रमणमें अब गिरिजाघरका नाम सामने आ रहा है । जानकारी मिल रही है कि न्यायाधीश तथा उनके परिवारपर प्रहार करने वाला गनर धर्म परिवर्तन करके ईसाई बन चुका था तथा न्यायाधीशके परिवारको भी धर्मान्तरित करनेका प्रयास कर रहा था; लेकिन जब न्यायाधीशका परिवार इसके लिए तैयार नहीं हुआ था तो उसने गोली चलाकर प्रहार कर दिया तथा न्यायाधीशकी पत्नी व उनके पुत्रकी ह्त्या कर दी ।

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश गुरुग्रामकी पत्नी या पुत्रको गोली मारनेके प्रकरणमें पुलिसको अब आरोपी सिपाहीके ईसाई गुरु और गुरु मांकी खोज है । गोली चलाने वाले सिपाही महिपालके गुरु इंद्रराज सिंह व गुरु मांकी खोज ‘अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) ’ कर रही है । पुलिसको जानकारी मिली है कि दक्षिण हरियाणा ही नहीं उत्तराखण्ड, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश व दिल्लीमें धर्म परिवर्तनके लिए एक बडा समूह कार्य कर रहा है । ‘अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) ’के सूत्रोंकी मानें तो ११ अगस्त २०१५ को महेंद्रगढके नारनौल उपमण्डलके गांव भूवारकामें पुलिसने ग्रामीणोंकी परिवादपर छापा मारा था । पुलिसको सूचना मिली थी की गांवमें चिकित्साका लालच देकर धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है ! ग्रामीणोंके हंगामेपर पुलिसने इस प्रकरणमें मुख्य आरोपी इन्द्रराज सिंहके विरुद्घ अभियोग प्रविष्ट किया और उसे न्यायालयमें प्रस्तुत किया था । अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी)  सूत्रोंके अनुसार इंद्रराज सिंहकेद्वारा ही महिपाल इस चक्रव्यूहमें फंसा ।

२१ अगस्त २०१८ को पुलिसने विश्रामालयमें (होटलमें) छापा मारकर ‘सीआरपीएफ’के जवान सहित जिन ८ लोगोंको बन्दी बनाया था, उनकी पैरवी भी महिपालने गुरूग्रामसे आकर की थी । ११ अगस्त २०१५ की घटनाके समय जब अपने गुरुको बचानेके लिए महिपाल खुलकर सामने आ गया था, तो उसकी मां सरिताने उसका विरोध किया था । महिपालके न मानने पर, उसकी मां अपने सगे भाईके गांव कोसलीमें रहनेके लिए चली गईं थीं । वहीं, ग्रामीणोंके विरोधके पश्चात महिपाल अपनी पत्नी मीनू व दो लडकियोंके साथ गुरुग्राम पुलिस लाइनमें रहने चला गया । इसके पश्चात भी महिपालने अपना सम्पर्क जारी रखा । अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी)  सूत्रोंके अनुसार महिपाल सिंहने न केवल सामाजिक प्रसार माध्यमपर (सोशल मीडियापर) अपने आपको अपडेट किया, बल्कि वह निरन्तर महेंद्रगढमें आकर यहांके युवाओंको गुमराह करता रहता था । अपराध अन्वेषण विभाग (सीआईडी) सूत्रोंकी मानें तो महिपाल अभी तक २ दर्जनसे अधिक युवाओंका धर्म परिवर्तन करा चुका है !

ज्ञात हो कि महिपाल, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश गुरुग्रामकी पत्नी रेणु व उनके पुत्र ध्रुवपर भी गत काफी समयसे धर्म परिवर्तनका दबाव बना रहा था । दोनोंने उसकी बात नहीं मानी, तो आरोपीने उनके साथ अभद्र व्यवहार और उनपर क्रोध करना आरम्भ कर दिया था । इसी कारण आरोपीने रेणु और उनके पुत्र ध्रुवको शनिवारको गुरुग्रामके सेक्टर ५९ स्थित आर्केडिया मार्केटमें गोली मार दी !

अपराध अन्वेषण विभागके (सीआईडी) सूत्रोंकी मानें तो महिपालने ३ वर्ष पूर्व धर्म परिवर्तन कर लिया था !
“क्या अब ही हिन्दू धर्मनिरपेक्षताके भूतपर ही टिके रहेंगें ! स्मरण रहे ! यदि धर्मान्धोंका विरोध आरम्भ नहीं किया और धर्म परिवर्तनपर खुलकर नहीं बोले तो धर्मान्धोंद्वारा ऐसे कितने ही महिपाल तैयार होंगें !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : सुदर्शन न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution