पहले दुष्कर्म, फिर निकाह कर दिया ‘तीन तलाक’, ‘हलाला’के पश्चात भी पत्नीको ठुकराया !


अगस्त १०, २०१८

उत्तर प्रदेशके रामपुर गांवकी लडकीका जीवन बर्बादीकी सीमापर पहुंच गया है । गांवके ही एक युवकने विवाहका झांसा देकर पहले दुष्कर्म किया और उसके पश्चात कारावास जानेके भयसे निकाह कर लिया । कुछ ही दिवसमें युवकने उसे ‘तीन तलाक’ दे दिया ! पंचायतके मध्य प्रकरण पहुंचा तो पुनः निकाहके लिए युवतीके जेठसे ‘हलाला’ भी हो गया ! ‘हलाला’के पश्चात भी युवकने पुनः निकाह से मना कर दिया ! पीडिताने एसपीसे मिलकर न्यायकी मांग की है । इस मध्य पति और जेठ दोनों भाग गए हैं !

कोतवाली क्षेत्र अन्तर्गत एक गांवकी युवतीका निकटके ही एक युवकसे प्रेम प्रसंग चल रहा था । युवकने शादीका झांसा देकर उसके साथ दुष्कर्म किया  और जब प्रकरण उजागर हुआ, तब अभियोग प्रविष्ट कराने की बात आई; लेकिन पंचायतने गांवका अपमान न हो, इसके चलते युवतीका निकाह आरोपी युवकसे करा दिया गया । निकाह इसी वर्ष फरवरीमें हुआ था । बताते हैं कि जेल जानेके भयसे निकाह तो हो गया; लेकिन युवक और उसके परिजन इस निकाहसे प्रसन्न नहीं थे । लगभग ढाई माह पश्चात ही मईमें युवकने उसे तलाक दे दिया गया; लेकिन युवतीने अपनी ससुराल नहीं छोडा और वह वहीं रहती रही । उसका पति घर छोड कर दूसरे प्रदेशमें व्यापार करने चला गया । विवाहिताका आरोप है कि उसके जेठने आश्वस्त किया कि वह अपने भाईसे पुनः निकाह करा देगा । यह आश्वासन देकर उसे प्रान्तीय मुख्यालय ले गया, जहां तलाकके लिखितपत्र तैयार करा लिए । विवाहिताका यह भी आरोप है कि उसका गर्भपात करा दिया गया !

जब यह प्रकरण अधिक ही बढा तो मायकेके लोगोंके अतिरिक्त ग्रामीणोंने इस प्रकरणमें हस्तक्षेप किया । इसके चलते एक बार पुनः ससुराल वाले दबावमें आए और उन्होंने पुत्रसे पुनः निकाह करानेकी स्वीकृति दी; लेकिन निकाहसे पूर्व जेठसे ‘हलाला’ करनेको कहा ! उसका बलात हलाला करा दिया गया ! इसके पश्चात भी युवक उसके साथ पुनः निकाह करनेसे मना कर गया ! मना करनेके पश्चात युवक और जेठ दोनों ही घरसे भाग गए ! पीडिता अपने परिजनके साथ पुलिस अधीक्षकसे मिली और ससुराल वालोंके विरूद्ध अभियोग प्रविष्ट कराने की प्रार्थना की । पुलिस अधीक्षकसे की गई टरिवादमें कई महिलाएं भी आरोपी बनाई गई हैं ।

पुलिस प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार तिवारीका कहना है कि इस प्रकरणकी उन्हें कोई परिवाद प्राप्त नहीं हुई है । यदि कोई प्रार्थना पत्र मिलता है तो जांच करवाकर उचित कार्यवाही की जाएगी ।

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution