योगीने हनुमानजीको दलित बताया, ब्राह्मण सभाने विरोध प्रकट किया


नवम्बर २८, २०१८

उत्तर प्रदेशके मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथने राजस्थानमें प्रचारके मध्य बजरंगबलीको दलित बता दिया ! उनके इस वक्तव्यपर राजस्थान ब्राह्मण सभाने विरोध प्रकट किया है । ब्राह्मण सभाने हनुमानजीको जातिमें विभाजित करनेका आरोप लगाते हुए योगी आदित्यनाथको वैधानिक अधिसूचना (नोटिस) भेजी है ।


इधर भाजपाने योगीके हनुमानकी जातिपर दिए वक्तव्यसे किनारा कर लिया । केन्द्रीय मन्त्री प्रकाश जावडेकरने इस सम्बन्धमें प्रश्न पूछे जानेपर गोल-मोल उत्तर देते हुए कहा कि ये तो उन्होंने कांग्रेसको उत्तर देनेके लिए कहा होगा । वहीं कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारीने कहा कि ये लोग वोटके लिए जातिको भी नही छोडते हैं ।

उल्लेखनीय है कि अलवर जनपदके मालाखेडामें एक सभाको सम्बोधित करते हुए योगी आदित्यनाथने बजरंगबलीको दलित, वनवासी, गिरवासी और वंचित बताया । योगीने कहा कि बजरंगबली एक ऐसे लोक देवता हैं, जो स्वयं वनवासी हैं, गिर वासी हैं, दलित हैं और वंचित हैं ।

गौ तस्करीके नाम पर जिस रामगढमें अकबर खानको पीट-पीटकर मार डाला गया था, इसपर बोलते हुए योगी आदित्यनाथने कहा कि मतदानमें राम भक्त भाजपाको वोट दें और रावण भक्त कांग्रेसको वोट दें । भरतपुरमें बोलते हुए योगी आदित्यनाथने कहा कि भाजपा औरंगजेब जैसे लोगोंसे रक्षा कर सकती है । राम राज्य लानेके लिए भाजपा उम्मीदवारको विजयी बनाएं ।

योगीके इस वक्तव्यको भाजपाके हिन्दुत्व कार्डके साथ-साथ जातिगत वोट बैंकको साधनेके प्रयासके रूपमें भी देखा जा रहा है । राजस्थानमें कुल जनसंख्याका १७.८ प्रतिशत भाग दलित समुदायका है । परम्परागत दलित वोट बैंक गत एक दशकसे कांग्रेस छोड भाजपाके साथ जुडा हुआ था, किन्तु इस बार वसुंधरा राजे सरकारको लेकर इस दलमें विद्रोह है ।

दलितोंको साधनेके लिए भाजपाने कई प्रयास राजस्थानमें किए, किन्तु स्थिति परिवर्तन न होनेपर विधानसभा मतदानमें वसुंधरा राजेको विजयी करनेके लिए उतरे योगी आदित्यनाथने बजरंगबलीको दलित बताकर नया दांव चला है ।

 

 

“यदि हिन्दुवादी ही देवी-देवताओंकी विडम्बना करने लगेंगें तो धर्म रक्षणार्थ किससे अपेक्षा की जाए ? ऐसेमें हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना ही एकमात्र उपाय है”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution