धर्मान्धोंको भाजपाद्वेष, भाजपाको वोट देनेपर मस्जिदमें नहीं घुसने दिया !!


अप्रैल २३, २०१९

जफर अलीने हिन्दू-मुस्लिम एकता तथा साम्प्रदायिकके राजनैतिक नारोंमें विश्वास करते हुए बीजेपीको मतदान किया तो उसके विरुद्घ वही लोग खडे हो गए, जो ये उद्घोष करते थे । हिन्दू-मुस्लिम एकताकी बात करनेवाले कथित मौलानाओंने जफर अली तथा उसके परिवारको मस्जिदमें इसलिए नहीं घुसने दिया; क्योंकि उन्होंने बीजेपीको वोट किया था ! भाजपाको वोट देनेके कारण जफर अली और उसके परिवारके सदस्योंको गांवकी मस्जिदमें प्रवेश करने और नमाज पढनेपर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है ।

प्रकरण पूर्वोत्तर भारतके असम राज्यका है, जहां जफर अलीने आठ नं. मंगलदै लोकसभा क्षेत्रके दलगांव थानेमें प्रकरण प्रविष्ट कराया है । जफर अलीने समाचार माध्यमोंको बताया कि उसने और उसके परिवारने मतदानके दिवस १८ अप्रैलको नदीरकाश प्राथमिक विद्यालय स्थित मतदान केन्द्रपर जाकर बीजेपीके पक्षमें मतदान किया, जिसे कई लोगोंने देखा । इसके पश्चात वह शुक्रवारको दोपहर १२.३० बजे नदीरकाश मस्जिदमें नमाज पढने गया । नमाजके समय मुशर्रफ अलीने हदीसका वाचन करनेके पश्चात कहा कि बीजेपी मुसलमानोंपर अत्याचार कर रही है और जो बीजेपीको वोट दे रहा है, उसे है मस्जिदमें नमाज नहीं पढने दिया जाएगा ।

इसके पश्चात जफर अली खडा हुआ बोला कि हमने तो भाजपाको ही मत दिया है। ऐसा कहनेपर उसे नमाज पढे बिना मस्जिदसे निकल जानेको कहा और जब कुछ समय वह वहां खडा रहा तो उसे ‘गेट आउट’ कहते हुए दो-तीन लोग उसकी ओर आने लगे, जिसे देखकर उसने मस्जिदसे दलगांव थानेमें जाकर इस सम्बन्धमें परिवाद प्रविष्ट कराई । जफर अलीके पुत्र मुस्तफा कमालने कहा कि उसके पिता जफर अलीको लेकर मस्जिदमें मुशर्रफ अली वक्तव्य दे रहा था कि जो बीजेपीको वोट दिया है, वह मुसलमान नहीं है, वह नमाज नहीं पढ सकता ।

“धर्मनिरपेक्षता, भाईचारा ये सभी शब्द समाचार माध्यमों, विज्ञापनों, धर्मनिरपेक्ष हिन्दुओं और नेताओंके मुखसे ही अच्छे लगते हैं; वास्तविकता तो ठीक इसके विपरित है । वास्तवमें तो हिन्दी, हिन्दू और फिर भाजपा ये सभीका नाम सुनकर ही धर्मान्ध विष उगलने लगते हैं और यह प्रकरण भी यही सिद्ध करता है, यदि विश्वास न हो तो कोई भी धर्मनिरपेक्ष हिन्दू कुछ दिवस मदरसों या मस्जिदोंमें जाए, स्वतः ही स्पष्ट हो जाएगा ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : सुदर्शन न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution