इच्छाशक्ति, क्रियाशक्ति, ज्ञानशक्ति तथा राष्ट्र व धर्मकी स्थिति’


‘इच्छाशक्तिके कारण ‘कुछ करना चाहिए’ ऐसी इच्छा उत्पन्न होती है । क्रियाशक्तिके कारण प्रत्यक्ष कृति करनेकी प्रेरणा मिलती है । कुछ करनेकी इच्छा उत्पन्न होने और प्रत्यक्ष कृति करनेके लिए ज्ञानशक्तिकी सहायता होनेपर ही योग्य इच्छा उत्पन्न होती है जिसके परिणामस्वरूप योग्य कृति होती है । अन्य पंथियोंको उनकी साधनाके कारण ज्ञानशक्ति सहायता करती है । हिन्दू साधना नहीं करते; इसलिए उन्हें ज्ञानशक्तिकी सहायता नहीं मिलती है । इस कारण मध्यके कुछ वर्षोंंको छोडकर विगत (पिछले) सहस्र वर्षोंसे उनकी पराजय हो रही है । हिन्दुत्त्ववादी संगठन और राजकीय पक्षोंमें इच्छाशक्ति एवं क्रियाशक्ति है; परन्तु साधनाके अभाववश हिन्दू अभी भी हार रहे हैं । इसका उपाय यही है कि हिन्दुओंको ज्ञानशक्ति प्राप्त हो, इसलिए उनसे साधना करवानी होगी । – परात्पर गुरु डॉ जयंत आठवले



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution