सबरीमालामें महिलाओंका समर्थन करनेवाली सीपीएम समर्थित कन्नूरके मन्दिरमें दलितोंका प्रवेश प्रतिबन्ध !


फरवरी १०, २०१९


सबरीमाला मन्दिरमें महिलाओंके प्रवेशको लेकर केरलके सीपीएम शासनने भले ही प्रगतिशील दिखनेका प्रयास किया हो; परन्तु यह स्थिति सभी स्थितियोंपर लागू नहीं होती है । एक प्रसिद्ध मन्दिरकी देखभाल सीपीएम पार्टीकी ओरसे की जाती है; परन्तु इसमें दलितोंके प्रवेशपर प्रतिबन्ध है । सीपीएमकी विचारधारासे जुडे मन्दिर प्रबन्धकोंने दलितोंको वार्षिक उत्सवसे दूर रखा है ।

इस उत्सवमें परम्पराके रूपमें देवीकी तलवारको घर लेकर जाते हैं । माना जाता है कि इससे सभी तामसिक शक्तियोंका संहार किया जा सकता है । यद्यपि, क्षेत्रमें पडनेवाले ४०० दलित परिवारोंको सम्मिलित होनेकी इच्छाके पश्चात भी उत्सवका भाड नहीं बनने दिया जाता है । रविवारको इस उत्सवका समापन होने जा रहा है और गत छह दिनोंसे देवीके अस्त्र-शस्त्रको एक घरसे दूसरे घर ले जाया जा रहा है ।


‘केरल स्टेट पट्टिका समाजम’ने (केपीजेएस) बताया, “प्रदेशमें भेदभावका यह कोई अकेला प्रकरण नहीं है । ऐसा और भी कई भागोंमें होता है । विडम्बना तो यह है कि सीपीएम अभी प्रदेशमें है । सीपीएम शासन सबरीमालामें महिलाओंके प्रवेशके अधिकारका समर्थन कर रही है । इस मन्दिरके संचालनका काम भी सीपीएमकी विचारधारासे सहमति रखनेवाला वर्ग कर रहा है; परन्तु दलितोंको इससे दूर रखा जा रहा है ।”

मन्दिरके प्रबन्धन समितिके सचिव पीपी गंगाधरनका कहना है, “यह जातिके आधारपर भेदभावका प्रकरण नहीं है । सबको समझना चाहिए कि रातोंरात तो हम मंदिरकी दशकोंसे चली आ रही परम्पराको नहीं परिवर्तित कर सकते हैं । यह प्रकरण भी अभी न्यायालयमें ही है ।”

 

“सम्भवतः केरलके निधर्मी शासनको इस कार्यके लिए गिरिजाघरोंका आदेश नहीं आया है ! गिरिजाघरोंका आदेश आते ही यह भी किया जाएगा; परन्तु परिस्थिति कुछ ऐसी निर्मित होगी कि अधिकसे अधिक हिन्दुओंका धर्मान्तरण किया जा सके ! केरल शासनका एकमात्र लक्ष्य गिरिजाघरोंके साथ मिलकर अधिकसे अधिक हिन्दुओंका धर्मान्तरण ही है ! हिन्दुओंको यदि अपना अस्तित्व बचाना है तो समयानुसार जातिभेद समाप्तकर, निधर्मियोंके विरुद्घ बोलनेकी आवश्यकता है !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution