भारतमें प्रवेश कर रहा ‘आइएस’, श्रीनगरकी जामिया मस्जिदमें लहराए गए ‘आईएस’ ध्वज !!!!


दिसम्बर २९, २०१८

जम्मू कश्मीरमें ‘आईएस’की उपस्थिति एक बार पुनः दिखाई देने लगी है । श्रीनगरकी प्रसिद्ध जामिया मस्जिदमें शुक्रवारको जुमेकी नमाजके पश्चात कुछ अराजकतत्वोंने ‘आईएस’के ध्वज लहराए !

इसी मस्जिदमें अलगाववादी नेता मौलाना उमर फारूख प्रायः भाषण देते रहते हैं । यह मस्जिद पहले भी विवादोंके केन्द्रमें बनी रही है । जुमेंकी नमाजके पश्चात यहांसे उपद्रवी तत्व सुरक्षाबलोंपर पथराव करते हैं ।

शुक्रवारको आईएसके कुछ समर्थकोंने श्रीनगरके नौहट्टा क्षेत्रमें स्थित जामिया मस्जिदमें आईएसका ध्वज लहराया और देश विरोधी नारेबाजी की । बताया जा रहा है कि यह घटना शुक्रवारको जुमेकी नमाजके पश्चात हुई, जब मस्जिदसे अधिकतर लोग वापस जा चुके थे ।

 

“क्या धर्मनिरपेक्षवादी अभी भी नेत्र मूंदकर यही कहेंगें कि आतंकका कोई धर्म नहीं होता !! भारतमें ‘आइएस’ धर्मान्धोंके माध्यमसे प्रवेश कर रहा है, मस्जिदें व मौलवी उनके समर्थक सिद्ध हो रहे हैं और हम कार्यवाहीके स्थानपर भाइचारेमें ही भ्रमित है !! कश्मीर हेतु त्वरित समाधानकी आवश्यकता है; क्योंकि केन्द्रके अनुदान व निशुल्क वितरणका परिणाम यह है कि वहां अब ‘आइएस’का प्रवेश हो गया है !! और यदि निशुल्क वितरणके पश्चात भी यदि कोई शिक्षित हो जाता है तो वह या तो आतंकी बनता है अथवा उनका समर्थन करता है, ऐसेमें हमें विचारकर एकपक्षकी ओर होकर पूर्ण समाधान निकालना होगा, अन्यथा ये प्रकरण राष्ट्रके लिए शुभसंकेत नहीं है । सीरिया आदि राष्ट्रकी दुर्गतिसे भारतीय शासकगण बोध लें व त्वरित समाधान करें, यही राष्ट्र हितमें है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution