शिरडी देवालयका हो रहा इस्लामीकरण, ‘द्वारिकामाई’ मस्जिद बनी, ‘ऊँँ’ व भगवा रंगका विरोध !


नवम्बर २९, २०१८

शिरडीमें द्वारिकामाईके निकट लगे दो भगवा साइनबोर्डपर विवाद हो गया है । स्थानीय और मुसलमान समुदायके कुछ लोगोंके प्रदर्शनके पश्चात इन बोर्डको हटा दिया गया है । उल्लेखनीय है कि ‘द्वारिकामाई मस्जिद’ वाले पटको हटाकर ‘द्वारिकामाई मन्दिर’ वाले पट (बोर्ड) लगा दिए गए थे । मुसलमानोंने मांग की है कि इन भगवा बोर्ड और ध्वजको भी आठ दिवसके भीतर हटाया जाए ! एक अंग्रेजी जालस्थलके अनुसार प्रदर्शनकारियोंने आरोप लगाया है कि ‘साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट’का भगवाकरण हो रहा है । साईंके ध्वजमें ‘ऊं’ शब्द व ‘ऊं साईं नाथाय नमः’ने प्रकरण और भडका दिया !

मुसलमानोंका कहना है कि जबसे कुछ नूतन सदस्योंने समितिका कार्यभार सम्भाला, तबसे इसका भगवाकरण किया जा रहा है । इस प्रकरणमें संस्थानके संचालकके पास एक परिवाद भेजी गई, जिसमें धर्मस्थलमें कुछ परिवर्तन किए गए हैं, ताकि इसे एक विशेष धर्मसे जोडकर दिखाया जा सकें ।

उल्लेखनीय है कि मन्दीरमें पूजा सदैव हिन्दू प्रथाके अनुसार होती है ।

 

“एक खरे सन्तकी स्थलीको ‘द्वारिकामाई मस्जिद’ बना दिया गया और अब धर्मान्धोंको वहां ‘ऊँ’ और अन्य प्रतिकोंसे भी परेशानी है, क्या कुछ समय पश्चात इसका भी इस्लामीकरण कर मस्जिद बनानेकी योजना है ? क्या इसी तथाकथित ‘गंगा-जमुनी संस्कृति’की बातें धर्मान्ध करते हैं ? सभी हिन्दू इसपर विचार करें । और मानव भी विचीत्र व स्वार्थी प्राणी है कि सन्तके सन्देश ‘श्रद्धा व सबुरी’को तो छोडकर शेष सब करता है” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution