फिलिस्तीन आतंकियोंको इजराइलका प्रखर उत्तर, २ के बदलेमें १०० राकेट छोडकर उडाया गाजाको !!


मार्च १५, २०१९

१४ मार्चकी सन्ध्याको फिलिस्तीनी आतंकियोंने इजराइलके बडे नगर तल अवीवपर रॉकेट आक्रमण किया, जिसमें फिलिस्तीनी आतंकियोंने २ रॉकेट छोडे !

इजराइलके वायु रक्षकोंने दोनों ही रॉकेटका अवरोधन (इंटरसेप्ट) कर लिया और दोनोंको ही हवामें उडा दिया, इजराइलको इस आक्रमणसे कोई हानि नहीं हुई । इसके पश्चात भी इजराइलने आतंकियोंको कडा उत्तर देनेकी घोषणा की ।

इजराइल शासनने इसे गम्भीर आक्रण घोषित कर दिया और अब इजराइलने घोषणा करनेके पश्चात गाजापर ‘स्ट्राइक्स’ आरम्भ कर दी है ।


इजराइलकी सेनाने गाजामें फिलिस्तीनके संगठन हमासके एक या दो नहीं, वरन १०० स्थानोंपर ‘स्ट्राइक’ कर दी ।

इजराइलकी वायुसेना और मिसाइल प्रणालीने फिलिस्तीनके १०० ठिकानोंपर स्ट्राइक किया, अब इसमें कितने फिलिस्तीनियोंको ढेर किया गया है वो तो फिलिस्तीन ही ठीकसे बता सकता है !

इजराइलने विश्वको पुनः सन्देश दे दिया कि उसपर किसीने आक्रमण किया तो २ के बदले १०० स्थानोंपर स्ट्राइक करेगा । इजराइल ऐसा भीषण देश है कि कोई भी मुस्लिम देश इस प्रकरणपर कुछ भी बोलनेको सज्ज नहीं है ।

 

“आतंकके विरुद्ध इजरायलकी नीति सदा ही सराहनीय रही है, तभी तो एक छोटासा देश होनेके पश्चात भी असीम शक्तिशाली है कि कोई उस ओर नेत्र उठाकर भी नहीं देख सकता है और इसका सबसे बडा कारण यहुदियोंका धर्माभिमान है, जो अपने राष्ट्रके प्रेमके लिए कुछ भी करनेको सज्ज है । वहां छोटेसे बडे तक सभीमें स्वधर्म प्रेम है, महिलाएं भी सेनामें बढ चढकर भाग लेती है, धर्मान्धताको सदैव नष्ट किया जआता रहा है । भारतीयोंमें यह तबतक नहीं आएगा, जबतक धर्माभिमान जागृत नहीं होगा । इजरायल-इजरायल रटनेसे नहीं होगा, वो स्वधर्म पालन व संस्कारोंसे होगा !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : डीबीएन



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution