जम्मू-कश्मीर : ‘जैश-ए-मोहम्मद’के २४ आतंकी घाटीमें घुसे, सुरक्षा विभागोंकी उडी नींद


‘जैश-ए-मोहम्मद’के लगभग दो दर्जन आतंकियोंके, एक नए समूहके, पीर पंजाल स्थित नियंत्रण रेखासे होते हुए कश्मीर घाटीमें घुसनेके संकेत मिले हैं। इसने सुरक्षा विभागों सहित ‘काउंटर इंसरजंसी ग्रिड’की नींद उडा दी है। सूत्रोंके अनुसार घुसपैठिए विभिन्न समूहोंमें विभाजित हो कर दक्षिण कश्मीरके त्राल, शोपियां और पुलवामा क्षेत्रोंमें छिपे हुए हैं। माना जा रहा है कि नए घुसपैठिए आधुनिक शस्त्रोंसे लदे हैं। । दक्षिण कश्मीरमें एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारीने पुलवामा जिलेमें ११ नए जैश आतंकवादियोंकी उपस्थितिकी पुष्टि की है। पुलिसके पास उपलब्ध जानकारीके अनुसार १०-११ जैश आतंकवादी पुलवामामें सक्रिय हैं। लगभग ७-८ आतंकियोंने त्रालमें डेरा डाला है। अवंतीपोरा, पुलिसके एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारीने बताया कि यह स्पष्ट नहीं है कि नया समूह त्रालमें प्रवेश कर चुका है या नहीं; लेकिन आतंकी आक्रमणमें निश्चित रूप से जैशकी भागीदारी है। सुरक्षा विभागोंकी सबसे बडी चिन्ता अभी १७वीं रमजान अर्थात कि इस्लामकी बद्रकी वर्षगांठ है, जो इसी सप्ताह शनिवारको आने वाली है। बद्रके युद्धकी वर्षगांठके अवसर शपर बडे स्तरपर आक्रमणकी आशंकाने सुरक्षा विभागोंकी नींद उडा दी है ! बताया जा रहा है कि गत वर्ष भी आतंकियोंने इस अवसरपर दक्षिण से उत्तरी कश्मीरतक बडे आतंकी आक्रमणोंको किया था; जिनका उत्तरदायित्व जैशने लिया था । जम्मू-कश्मीरमें केंद्र सरकारकी ओरसे घोषित एक तरफा संघर्षविरामका पाकिस्तान शकी ‘संयुक्त जिहाद परिषद’ने स्वागत किया था; लेकिन मूल स्तरपर उस पहलका आतंकवादी घटनाओंपर कोई प्रभाव नहीं दिख रहा है। कश्मीर घाटीके दक्षिणी जिलोंमें सक्रिय आतंकियोंने संघर्षविराम शकी घोषणाके बाद भी सुरक्षा बलोंपर आक्रमणको नहीं रोका है; हालांकि इन आक्रमणने बडे पैमानेपर सुरक्षा बलोंको हानि नहीं पहुंचाया; लेकिन दो मौकोंपर सेनाको हानि पहुंची है और एक नागरिककी मौत भी हुई थी !



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution