श्रीनगरमें आतङ्कियोंसे हुई चूक, कश्मीरी पण्डितके स्थानपर इब्राहिम खानकी हत्या


११ नवम्बर, २०२१
           जम्मू-कश्मीर ‘इस्लामी’ आतङ्कियोंने ८ नवम्बर २०२१ को श्रीनगरके पुरातन शहर क्षेत्रमें मोहम्मद इब्राहिम खानकी गोली मारकर हत्या कर दी । जहां इब्राहिम खान चाकरी करता था, उस आपणीके स्वामी डॉ. संदीप मावाको ज्ञात था कि आतङ्की कभी भी उसकी हत्या कर सकते हैं । उसे मध्याह्नमें ‘पुलिस’ने यह दूरभाषपर बताया था; अतः वे अपना नित्यका बडा वाहन न लेकर छोटी गाडीसे निकले । इब्राहिम खान लगभग रात्रि ८ बजे उनकी नित्यकी गाडी ‘एक्सयूवी’ लेकर निकला, तो उसे आपणीका स्वामी मानकर, आतङ्कियोंने उसपर गोलियां चलाईं, जिससे उसकी तत्काल मृत्यु हो गई ।
           पूर्वमें १९९० के दशकमें उनके पितापर भी ऐसा ही आक्रमण हुआ था । उनके पिता देहलीमें निवास करते हैं तथा ये अपनी पत्नी व बच्चों संग श्रीनगरमें निवास करते हैं । उन्होंने कहा कि वे भयभीत होकर कश्मीर छोडकर नहीं जाएंगे । २०१९ से वे कश्मीरमें लौट आए हैं ।
           आतङ्की संगठन ‘मुस्लिम जनबाज फोर्स’ने इस घटनाकी उत्तरदायित्व लेते हुए कहा है कि उनपर आक्रमण इसलिए किया गया; क्योंकि संदीप और उनके पिता रोशनलाल मावा भारतीय अभिकरणों (एजेंसीयों) हेतु कार्य करते हैं ।
            दीपावलीके पश्चात घाटीमें यह दूसरी हत्या है । इससे पूर्व आतङ्कियोंने बटमालू क्षेत्रमें ‘पुलिस’ अधिकारी तौसीफ अहमदकी हत्या की थी । आतङ्कियोंद्वारा १० हिन्दू नागरिकोंकी हत्याके उपरान्त, घाटीमें अति सतर्कता (हाई अलर्ट) है ।
         संदीप मावा सौभाग्यसे बच गए हैं; अन्यथा हत्या तो उन्हींकी की जानी थी ! संदीप मावा या कश्मीरके सभी हिन्दू, उनका क्या दोष है, जो उन्हें चयनितकर मारा जा रहा है ? इस प्रश्नपर सभी हिन्दू चिन्तन करें ! – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution