बलिदानके नामपर अपनी सबसे प्रिय पुत्रीका गला काटकर कहा – इससे अल्लाह प्रसन्न होंगे !


जून ९, २०१८

जोधपुर प्रान्तके पीपाड नगरमें गुरुवार रात अपने परिजनोंके साथ छतपर सो रही ४ वर्षीय बच्चीका गला काटकर हत्याका प्रकरण पुलिसने सुलझा दिया है । इस अचम्भित करने वाले प्रकरणमें बच्चीका पिता ही हत्यारा निकला ! हत्यारेने पवित्र रमजान माहमें अल्लाहको प्रसन्न करनेके लिए बेटीको मार दिया। पुलिसने उसे बन्दी बना लिया है।

पीपाड नगरके नवाब अली कुरैशी, पत्नी शबाना और दो पुत्रियोंके साथ घरकी छतपर सोया था । रात तीन बजे पत्नीकी आंख खुली तो बडी पुत्री रिजवान नहीं दिखी । उसने इधर-उधर देखा तो छतपर ही रक्तसे सनी पुत्रीपर दृष्टि गई । उसने तत्काल पतिको उठाया । पुत्रीको लेकर चिकित्सालय गए । चिकित्सकोंने उसे मृत घोषित कर दिया ! उसकी मांके विवरणपर अज्ञातके विरुद्ध हत्याका अभियोग किया गया ।

घटना के बाद, पुलिस अधीक्षक ग्रामीण राजन दुष्यन्त दलके साथ पहुंचकर घटनास्थलका निरीक्षण किया । किसी बाहरीके घरमें आनेकी सम्भावनाओंकी समीक्षा की ।

‘ब्लाइंड मर्डर केस’को देखते हुए जोधपुरसे न्यायिक विशेषज्ञको (फोरेसिंक एक्सपर्ट) बुलाया गया । दलने घटनास्थलसे रक्तके अवशेषको लेनेके साथ अन्य साक्ष्योंको एकत्रित किया । हत्यारेतक पहुंचनेके लिए जोधपुरसे श्वान दस्तेको (डॉग स्क्वॉड) भी बुलाया गया । श्वानको घटनास्थलके साथ तंग गलियोंमें घुमाया गया; लेकिन कोई साक्ष्य नहीं मिला ।

पुलिस अधीक्षक ग्रामीण राजन दुष्यन्तने बताया, बच्चीकी हत्याके प्रकरणमें परिजनोंसे पूछताछ की गई  । सन्देशके आधारपर पुलिसने नवाब अलीके साथ सख्ती की तो उसने पुत्रीकी हत्या की बात स्वीकार कर ली ।
अंधविश्वासी पिताने पुलिस शको बताया,  उसने रमजानके माहमें अल्लाहको प्रसन्न करनेके लिए ऐसा किया । उसने बताया, जीवनकी सबसे प्रिय वस्तु अल्लाहको बलिदान करनेके लिए ४ वर्षीय पुत्रीका गला काट दिया । इससे अल्लाह प्रसन्न होंगे । इसके बाद पुलिसने उसे बन्दी बना लिया ।

नवाब अलीने बताया, मैं बहुत धार्मिक व्यक्ति हूं । मेरी पुत्री रिजवाना मुझे बहुत प्रिय थी । वो अपने ननिहाल गई हुई थी । उसे बलिदान कर देनेके लिए मैंने गुरुवारको ही उसे वापस बुलाया । गुरुवार शाम मैंने रिजवानाको नगर घुमाया और उसे मिठाईके साथ उसकी पसन्दकी कई वस्तुएं खिलाई । रातको रिजवानाको नीन्दसे उठाकर कलमा पढाया और फिर उसे बलिदान कर दिया ।

स्रोत : दैनिक भास्कर



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution