कारकचिह्नका प्रयोग शब्दके साथ करें !


व्याकरणके सन्दर्भमें, किसी वाक्य, मुहावरे अथवा वाक्यांशमें संज्ञा या सर्वनामका क्रियाके साथ सम्बन्ध कारक कहलाता है । जैसे ने, से, में, का, के, की, को, पर, द्वारा, वाला आदि । यह शब्दोंके उपरान्त आता है, जैसे ‘गायको’, ‘पानीसे’, ‘शिवका’, ‘समुद्रमें’ आदि । प्रचलित हिन्दीमें इन्हें शब्दसे पृथक लिखा जाता है; परन्तु बोला साथमें जाता है । जैसे “आज वातावरण में शीतलता का प्रभाव है”, इस वाक्यका प्रयोग करते समय वातावरणमें तथा शीतलताका साथमें बोला जाता है; परन्तु साथमें लिखा नहीं जाता है । भाषाकी सात्त्विकता हेतु आवश्यक है कि हम जो बोलते हैं, वही लिखें !



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution