श्रीरामकी शरणमें माकपा ! केरलमें जन्माष्टमीके पश्चात मनेगा रामायण माह !


जुलाई ११, २०१८

बीजेपी वर्षोंसे केरलमें राजनीतिक धरातल ढूंढ रही है । केन्द्रमें भाजपा शासन आनेके पश्चात इस अभियानको और गति दी गई है । भाजपाके निरन्तर बढते प्रभाव शको देखते हुए, केरलमें सत्तारूढ माकपाने नवीन रणनीतिपर विचार करना आरम्भकर दिया है । राज्य शासनने ‘श्रीकृष्ण जयन्ती महोत्सव’का (कृष्ण जन्माष्टमी) आयोजन करनेके पश्चात अब ‘रामायण माह’ मनानेका निर्णय किया है । १७ जुलाईसे मलयालम कैलेण्डररके अनुसार अन्तिम महीना आरम्भ होने जा रहा है । यह १६ अगस्ततक रहेगा । मलयालम संस्कृतिमें इस माहको ‘कारकिदक्कम’के रूपमें जाना जाता है । ‘कारकिदक्कम’में मानसून अन्तिम चरणमें पहुंच जाता है । ऐसा माना जाता है कि इस अवधिमें मानवकी रोग प्रतिरोधक क्षमता दुर्बल हो जाती है, जिसके कारण उनकी क्षमताओंमें न्यूनता आती है । इसे देखते हुए लोग शामके समय अपने घरों और मन्दिरोंमें रामायणका पाठ करते हैं । इस माहके समय लोग आयुर्वेद चिकित्सा भी कराते हैं । मान्यताओंपर विश्वास करें तो इससे मानवका शरीर और दिमाग पुनः शुद्ध हो जाते हैं ।

केरलमें सत्तारूढ माकपा ‘कारकिदक्कम’ माहका प्रयोग लोगोंतक पहुंचनेके प्रयासमें जुटी है । इस अवधिको ‘रामायण माह’के रूपमें मनानेका प्रारूप तैयार करते हुए दलने इस अवसरपर कई कार्यक्रम आयोजित करनेकी योजना बनाई है । माकपाने इसके अन्तर्गत पार्टी कैडरोंको रामायणके उपदेशोंसे अवगत करानेका निर्णय किया है। इसके लिए संस्कृत भाषाके विद्वानोंकी सेवा ली जाएगी । योजनाके अन्तर्गत २५ जुलाईको राज्यस्तरीय सम्मेलनका आयोजन किया जाएगा । माकपाके इस पगको हिन्दू समुदायको लुभानेके प्रयासके रूपमें देखा जा रहा है । केरलमें राजनीतिक धरातल ढूंढ रही भाजपा हिन्दुत्वके नामपर पैठ बनानेका प्रयास कर रही है । माकपाने भाजपाके इस प्रयासको विफल करनेके लिए रामायण माह मनानेका निर्णय किया है । माकपा बहुसंख्यक समुदायको भाजपाकी ओर जानेसे रोकनेका प्रयास कर रही है । बता दें कि वर्ष २०१९ में लोकसभाके चुनाव होने वाले हैं । इसे देखते हुए भाजपाके शीर्ष नेतृत्वकी दृष्टि दक्षिण भारतीय राज्योंपर है । इसमें केरल सबसे महत्वपूर्ण है । भाजपाके राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पूर्वमें बहुत बार केरलका भ्रमण कर चुके हैं ।

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution