कुछ विशेष वृक्षोंको क्यों लगाना चाहिए ?


१. पीपल : हिन्दू धर्ममें धार्मिक मान्यताओंके कारण पीपलके वृक्षकी पूजा अति प्राचीन कालसे हो रही है । अब आधुनिक वैज्ञानिक भी कहने लगे हैं कि यह वृक्ष सबसे अधिक ‘ऑक्‍सीजन’ देता है । अतएव पर्यावरणको शुद्ध व पवित्र करने हेतु इस वृक्षको जहां सम्भव हो वहां लगाना चाहिए ।

२. बरगद : वटवृक्षकी भी पूजा हमारी हिन्दू संस्कृतिमें बहुत श्रद्धासे करते हैं । हमारे यहां तो एक त्योहारका नाम ही वटसावित्री व्रत है, जिसमें सुहागिनें इस वृक्षकी पूजाकर अपने पतिकी लम्बी आयुकी कामना करती हैं । इसे भारतका राष्ट्रीय वृक्ष भी कहा जाता है । बरगदका वृक्ष बहुत विशाल होता है । यह वृक्ष कितनी ‘ऑक्‍सीजन’ उत्‍पादित करता है ? यह उसकी छाया कितनी है ? इसपर निर्भर करता है ।

३. नीम : एक और वृक्ष है जिसके अनेक लाभ हैं । इस वृक्षको ‘सदाबहार’ कहा जाता है और पर्यावरणविदोंकी मानें तो यह एक प्राकृतिक वायुशोधक है । यह वृक्ष प्रदूषित ‘गैसों’ जैसे ‘कार्बन डाई ऑक्‍साइड’, ‘सल्‍फर’ और ‘नाइट्रोजन’को वायुसे ग्रहणकर पर्यावरणमें ‘ऑक्‍सीजन’को छोडता है । इस वृक्षके औषधीय गुण भी बहुत अधिक हैं । इसकी पत्तियोंकी संरचना ऐसी होती है कि ये बडी मात्रामें ‘ऑक्‍सीजन# उत्‍पादित कर सकता है । ऐसेमें सदैव अधिकसे अधिक नीमके वृक्ष लगानेका सुझाव दिया जाता है । इससे आसपासकी वायु सदैव शुद्ध रहती है ।

४. अशोक : अशोकका वृक्ष मात्र ‘ऑक्‍सीजन’ ही उत्‍पादित नहीं करता है; अपितु इसके फूल पर्यावरण सुगन्धित रखते हैं और सौन्दर्यको बढाते हैं । पर्यावरणविदोंकी मानें तो अशोकके वृक्षको लगानेसे न केवल वातावरण शुद्ध रहता है; अपितु उसकी शोभा भी बढती है । घरमें अशोकका पेड अनेक रोगोंको दूर रखता है । यह वृक्ष विषैली ‘गैसों’के अतिरिक्त वातावरणके दूसरे दूषित कणोंको भी सोखकर रोगसे उत्पन्न होनेवाले शोकको दूर करता है ।

५. अर्जुन : अर्जुनके वृक्षके विषयमें कहते हैं कि यह सदैव हरा-भरा रहता है । इसके आयुर्वेदिक लाभ भी बहुत हैं । यह वृक्ष भी वायुसे ‘कार्बन डाई ऑक्‍साइड’ और ‘दूषित गैसों’को सोखकर, उन्‍हें ‘ऑक्‍सीजन’में परिवर्तित कर देता है ।

६. जामुन : भारतीय आध्यात्मिक कथाओंमें भारतको जंबूद्वीप अर्थात जामुनकी धरती भी कहा गया है । बहुत ही स्वादिष्ट फल देनेवाला यह वृक्ष ‘सल्‍फर ऑक्‍साइड’ और ‘नाइट्रोजन’ जैसी विषैली ‘गैसों’को वायुसे सोख लेता है । इसके अतिरिक्त कई दूषित कणोंको भी जामुनका वृक्ष ग्रहण करता है।



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution