कर्नाटकके मुख्यमन्त्रीके कुमारस्वामीके बोल, आक्रमाणकारियोंको गोली मार दो !!


दिसम्बर २५, २०१८

कर्नाटकके मुख्यमन्त्री एचडी कुमारस्वामीका एक ऐसा वीडियो सामने आया है, जिसे लेकर विवाद हो गया है । इस वीडियोमें कुमारस्वामी अपने दलके नेताकी मृत्युका बदला लेनेके लिए आक्रान्ताओंके प्राण लेनेका आदेश देते हुए सुनाई दे रहे हैं । चलभाषपर हुई इस वार्ताका वीडियो मुद्रण सार्वजनिक होनेपर राज्यकी राजनीतिमें हडकम्प मच गया है । विपक्षी भारतीय जनता पार्टीने मुख्यमन्त्रीके इस रवैयेकी कडी निंदा की है ।

वस्तुतः, कुमारस्वामी विजयपुरा जनटदके भ्रमणपर गए थे. यहां पहुंचनेपर उन्हें गुप्तचर विभागकी ओरसे जनता दल सेकुलर पार्टीके एक नेताकी हत्याके बारेमें अवगत कराया गया । आरोप है कि इस घटनाकी सूचनापर कुमारस्वामीने वरिष्ठ पुलिस अधिकारीको चलभाष किया और उनसे आक्रान्ताओंको क्रूरतासे गोली मारनेका आदेश दिया ।

इस वार्तामें कुमारस्वामी कह रहे हैं, “मैं इस हत्यासे बहुत निराश हूं । वह बहुत अच्छे मानव थें । मैं नहीं जानता कि हत्या किसने की है ?, परन्तु उन्हें गोली मार दो !” कुमारस्वामीने जिस समय यह वक्तव्य दिया, उनके आसपास काफी लोग उपस्थित थे ।

कुमारस्वामीकी यह वार्ता सामने आनेके पश्चात कर्नाटककी राजनीतिमें मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टीने उनके इस ढंग को तानाशाही करार दिया । बीजेपी नेता शोभा करांदलाजेने कहा है कि मुख्यमन्त्रीद्वारा इस प्रकारके आदेश देना अराजकताको दिखाता है ।

कुमारस्वामीने स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि उन्होंने किसीको मारनेका आदेश जारी नहीं किया है । अपना बचाव करते हुए कुमारस्वामीने कहा कि उन्होंने यह बात एक मानव होनेके नाते कही थी, मुख्यमन्त्रीका कोई आदेश जारी नहीं किया था । अपनी इस दलीलको और सशक्त करते हुए कुमारस्वामीने कहा कि वह अपने पार्टी नेताकी मृत्युसे गुस्सेमें थे, इसलिए ऐसी बात कह गए ।

 

“अपने दलके नेताओंके लिए एक सत्तासीन व्यक्तिके मुखसे ऐसा वक्तव्य सुनकर विचित्र यह लगता है कि जब इनके संरक्षणमें रह रहे नागरिकोंके साथ अन्याय होता है अथवा स्त्रियोंसे दुष्कर्म होता है, तब इनकी क्षात्रवृत्ति क्यों नहीं जागृत होती है ?”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution