सपा विधायकका अधर्म, मंदिरमें आयोजित कार्यक्रममें भोजन पैकेटके साथ वितरण की गई मद्य !!


जनवरी ७, २०१९

हरदोईके एक मंदिर आयोजित पासी समाजके सम्मेलनके पश्चात भोजनके साथ मद्यकी (शराबकी) बोतल वितरित करनेका विडियो सामाजिक प्रसार माध्यमोंपर प्रसारित हो रहा है । इस घटनाके पश्चात सम्मेलनके आयोजक विधायक नितिन अग्रवाल विवादोंमें आ गए हैं ।


रविवारको नगरके प्राचीन श्रवण देवी मन्दिर प्रांगणपर आयोजित पासी समाजके सम्मलेनको हरदोई सदरसे विधायक नितिन अग्रवालने बुलाया था, इस सम्मलेनमें पूर्व राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल भी थे । सम्मेलनके समाप्त होनेके पश्चात लोगोंको भोजनके पैकेट वितरित किए गए थे, जिसमें पूडीके साथ मद्यकी बोतल भी परोसी गई और इसका विडियो सामाजिक प्रसार माध्यमोंपर प्रसारित हो गया है । बच्चे भी अपने हाथमें भोजन और उनमें रखी मद्यकी बोतल हाथमें पकडे दिख रहे हैं !! प्रश्न पूछे जानेपर वह नरेश अग्रवाल और विधायक नितिन अग्रवालका नाम भी ले रहे हैं ।

इस प्रकरणसे क्रोधित सदर सांसद अंशुल वर्माने मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रदेश अध्यक्षको पत्र लिखा है । पत्रमें कहा गया है, “६ जनवरी २०१९ को मेरे संसदीय क्षेत्र (लोकसभा) हरदोईके प्राचीन धार्मिक स्थल श्रवण देवी मंदिरमें भाजपा नेता नरेश अग्रवालद्वारा आयोजित पासी सम्मेलनके समय उपस्थित क्षेत्रवासियोंको बच्चोंके मध्य भोजनके साथ मद्यकी बोतलका वितरण किया है । यह अत्यन्त दुःखद है कि जिस संस्कृतिकी हमारा दल दुहाई देता है, हमारे नवआगंतुक सदस्य नरेश अग्रवाल उस संस्कृतिको भूल गए हैं ।


नरेश अग्रवालद्वारा हमारे पासी समाजका उपहास करते हुए जनपदके प्रख्यात शक्तिपीठमें मद्य वितरण जैसा निंदनीय कार्य किया है । यदि इसप्रकारकी गतिविधियोंको दलद्वारा गम्भीरतासे नहीं लिया गया तो हमारे समाजके हितार्थ चाहे सडकपर उतरना पडे, उनके सम्मानके साथ सन्धि नहीं की जाएगी । यदि इस प्रकरणमें प्रशासनिक अधिकारियोंकी अनदेखी सिद्ध होती है तो दलद्वारा उनके विरुद्ध भी कठोर विभागीय कार्यवाही करनेकी कृपा करें ।


“विधायक नितिन अग्रवाल, नरेश अग्रवालका देवालयके भीतर किया गया ऐसा कृत्य अक्षम्य अपराध है । धर्मशून्य राजनेता केवल स्वार्थ व लालचसे प्रेरित होकर ही राजनीतिमें प्रवेश करते हैं, तो ऐसे लोगोंसे संस्कार व धर्मपालनकी आशा की जा सकती है क्या ? सभी हिन्दू मिलकर ऐसे निधर्मी नेताओंका प्रतिकार करें व भाजपा इनपर कार्यवाही करें, ऐसी सभी हिन्दुवादिरयोंकी अपेक्षा है ।”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution