साध्वी प्रज्ञाका उमर अब्दुल्लाको उत्तर, वशमें रहता तो फांसीपर चढा देते !!


अप्रैल १९, २०१९
   
जम्मू-कश्मीरके पूर्व मुख्यमन्त्री उमर अब्दुल्लाने भोपालसे साध्वी प्रज्ञाको टिकट दिए जानेपर लक्ष्य साधा है । उनका कहना है कि साध्वी प्रज्ञाकी जमानत रद्द होनी चाहिए । चुनाव लडनेके लिए साध्वी प्रज्ञाका स्वास्थ्य ठीक है ? यदि ठीक है तो उन्हें कारावासमें डालो । उमर अब्दुल्लाने ट्वीटकर लिखा कि साध्वी प्रज्ञाको भोपालसे भाजपाने अपना प्रत्याशी बनाकर, वैधानिक व्यवस्थाका कैसा उपहास किया है ? वह आतंकवादकी आरोपी हैं । उनके विरुध्द अभियोग चल रहा है, स्वास्थ्य आधारपर जमानतपर बाहर हैं; परन्तु चुनाव लडनेके लिए एकदम स्वस्थ हैं । उमरने श्रीनगरमें वोट करनेके पश्चात भी साध्वी प्रज्ञापर लक्ष्य साधा ।

वहीं, इस प्रकरणमें साध्वी प्रज्ञा ठाकुरने उमर अब्दुल्लाको उत्तर दिया है । उन्होंने कहा कि अच्छा हुआ उमर अब्दुल्लाने यह नहीं कहा कि साध्वीको तुरन्त फांसीपर लटका देना चाहिए; क्योंकि इनका षड्यंत्र यही था । उमर अब्दुल्लाको अपनी जानकारी ठीक करनी चाहिए, मुझे स्वास्थ्यके आधारपर जमानत नहीं मिली है ।

उमर अब्दुल्लाने मतदानके पश्चात कहा कि भाजपाको अब मन्दिर-मस्जिदपर वोट नहीं मिल रहे, तभी भोपालसे आतंकवादकी आरोपीको टिकट दिया है । उल्लेखनीय है कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भोपालसे कांग्रेसके दिग्विजय सिंहके विरुद्घ चुनाव लड रही हैं ।

“झूठको १० बार बोलें, ५० बार बोलें तो वह सत्य प्रतीत होता है । कांग्रेस व अन्य हिन्दू विरोधी दलोंकी यही नीति रही है कि भगवा आतंकवाद, हिन्दू आतंकवाद पहले यह शब्द बनाए गए, तदोपरान्त राष्ट्रनिष्ठ साधुओं और सन्तोंपर लक्ष्य साधा गया और फंसाया गया । ऐसेमें साध्वी प्रज्ञा उनकी पोल खोल रही हैं तो उनके असहनीय हो रहा है, जिसके कारण ‘एनआइए’के मुक्त करनेके पश्चात भी विरोधी आतंकवादी-२ चिल्ला रहे हैं । हिन्दू विरोधी इन शक्तियोंको आनेवाले चुनावोंमें जनताने उत्तर देना चाहिए । ”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution