‘कैग’की जांचमें अखिलेश शासनका ९७ सहस्र कोटिका भ्रष्टाचार उजागर हुआ !!


अप्रैल ४, २०१९
   
उत्तर प्रदेशमें शासकीय धनके प्रयोगमें भ्रष्टाचार उजागर हुआ है । ९७ सहस्र कोटिकी धनराशि कहां-कहां और कैसे व्यय हुई ?, इसका कोई लेखा-जोखा ही नहीं है । ‘कैग’के ब्यौरेमें उजागर हुआ कि अखिलेश शासनमें शासकीय धनकी प्रखर लूट हुई है ! शासकीय योजनाओंके नामपर भ्रष्टाचारकर ९७ सहस्र कोटि रुपएके शासकीय धनका बंदरबांट हुआ । सबसे अधिक भ्रष्टाचार समाज कल्याण, शिक्षा और पंचायतीराज विभागमें हुआ है । केवल इन तीन विभागोंमें २५ से २६ सहस्र कोटि रुपये कहां व्यय हुए ?, विभागीय अधिकारियोंने कोई लेखा-जोखा नहीं दिया है !

‘कैग’ने ३१ मार्च, २०१७-१८ तक उत्तरप्रदेशमें व्यय हुए बजटकी जांच की है । ‘कैग’ने कहा कि उत्तर प्रदेशमें व्यय हुए कुल धनराशीका लेखा-जोखा अखिलेश शासनके पास नहीं है । व्ययकी उपयोगिता प्रमाणपत्र उपलब्ध नहीं होनेसे उत्तरप्रदेशमें बडे स्तरपर धनराशिके दुरुपयोग और व्ययमें धोखाधडीकी आशंका है ।

कैगने जिस अवधिमें व्ययकी जांच की है, उस समय अखिलेश यादवका सपा शासन रहा । उत्तरप्रदेशमें २०१४ से ३१ मार्च २०१७ के मध्य हुए लगभग ढाई लाखसे अधिक कार्योंकी उपयोगिता प्रमाणपत्र उपलब्ध ही नहीं हैं । उत्तरप्रदेशमें धनराशिके उपयोगिता प्रमाणपत्र जमा न करनेका प्रकरण कई बार शासनके समक्ष लाया गया; परन्तु कोई सुधार नहीं हुआ है ।


“उत्तरप्रदेशकी इस दुर्गतिका श्रेय पूर्णतया सपा और बसपाको जाता है । जिस वृक्षको तथाकथित दलित हितैषिणी सुश्री मायावतीजीने रोपा, अखिलेशजी उसीको खाद और पानी देकर गए हैं और ऐसा हो भी क्यों न ? देशका सबसे बडा समाज नागरिक यादव, जाट, ब्राह्मण आदिके नामपर लडनेमें व्यस्त है और नेता घर भरनेमें ! अभी कुछ माह पूर्व ही समाचार आए थे कि अखिलेश शासकीय भवन छोडते समय कोटि रूपयोंकी तोडफोड करके गए थे, अब ऐसे नेताओंसे क्या आशा की जा सकती है ? और यह केवल उत्तर प्रदेशकी नहीं, अधिकतर राज्योंकी यही स्थिति है । सहस्रों कोटिका भ्रष्टाचार ऐसे होता है, जैसे कुछ सौ रूपयोंका ! अनुमान करना कठिन है कि यदि ये पैसा जनतातक पहुंच जाता तो आज यह देश कहांसे कहा होता ! कुछ सहस्र कोटिके अस्त्र-शस्त्र नहीं क्रय कर पानेवाला भारत, सहस्रों कोटिसे नेताओंके घर भर रहा है !! योगी शासन इसकी जांचकर दोषियोंपर कडीसे कडी कार्यवाही करें और उचित दण्ड प्रदान करें !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : न्यूज १८



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution