महाराष्ट्रके भिवंडीमें पुनः ४० अवैध बांग्लादेशी बनाए गए बन्दी, आरोपियोंसे छद्म आधार, ‘पैन’ व पारपत्र (पासपोर्ट) हुए प्राप्त


०२ दिसम्बर, २०२१
            महाराष्ट्रके ठाणे जनपदके भिवंडीमें ‘पुलिस’ने बडी कार्यवाही करते हुए अवैध रूपसे रह रहे ४० बांग्लादेशी नागरिकोंको बन्दी बनाया है । देशमें अवैध रूपसे प्रविष्ट हुए यह बांग्लादेशी ‘दिहाडी’ श्रमिकका कार्य कर रहे थे । इन सभी व्यक्तियोंके विरुद्ध प्रकरण प्रविष्ट कर लिया गया है । भिवंडीके ‘डीसीपी’ योगेश चव्हाणने संवाददाताओंसें अपना वक्तव्य साझा करते हुए बताया कि यह लोग बांग्लादेशसे अवैध रूपसे छद्म प्रमाणपत्र बनवाकर भारत आए थे व भिवंडी जनपद एवं उसके बाहरी क्षेत्रोंमें विभिन्न ‘कम्पनियों’में कार्यरत थे । उन्होंनेे यह भी बताया कि बन्दी बनाए गए बांग्लादेशियों नागरिकोंमें से एकके पास छद्म पारपत्र भी प्राप्त हुआ है एवं अन्य लगभग ९० प्रतिशत लोगोंने यहांका आधार व ‘पैन कार्ड’ भी बनवा लिया था । वहीं ‘पुलिस’ने इनके पाससे २८ भ्रमणभाष भी प्राप्त किए हैं, जिनका मूल्य लगभग ९४००० बताया जा रहा है । ‘मीडिया’ प्रतिवेदनके अनुसार, ‘पुलिस’ने जनपद व उसके निकटवर्ती क्षेत्रोंमें छापेमारीकर, २० लोगोंको शान्ति नगरसे, १० को भिवंडी जनपदसे एवं १० को नारपोली ‘पुलिस’ ‘थाना’ क्षेत्रसे बन्दी बनाया है । ‘पुलिस’के अनुसार, यह लोग बांग्लादेशमें अपने परिचितों और कथित रूपसे सीमा पार करानेमें उनकी सहायता करनेवाले लोगोंके साथ सम्पर्क करनेके लिए ‘आईएमओ वीडियो एप’का प्रयोग करते हैं । उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व, गत २० नवम्बरको भी भिवंडीमें ९ बांग्लादेशी नागरिकोंको बिना किसी वैध प्रमाणपत्रके बन्दी बनाया गया था ।
       समाचार स्पष्ट करता है कि किस प्रकार अवैध रूपसे बांग्लादेशी नागरिकोंको बंगालकेद्वारा सरलतासे भारतमें प्रवेश दिया जा रहा है । वहीं केन्द्र शासनको सीमापर सैन्यबलमें वृद्धिकर योग्य कार्यवाही हेतु सिद्ध होना चाहिए । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution