राजस्थानमें मंदिरमें दीपक जलानेपर दो समुदायोंमें विवाद, धर्मान्धोंने की पत्थरबाजी


६ अप्रैल, २०२०

कोरोना विषाणुके विरुद्ध लडाईमें पूरा देश पुन: एकजुट हो गया । इस महामारीके अंधकारको चुनौती देनेके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीकी प्रार्थनापर देशके १३० कोटि लोग रात्रि  नौ बजे नौ मिनटके लिए दीए जलाए।

राजस्थान स्थित सीकरके हेतमसर गांवमें ५ अप्रैलको कोरोनाके विरूद्ध देशकी एकता प्रदर्शित करनेके प्रधानमन्त्री मोदीके आह्वानपर रूकमानंद सैनी, मनोज सैनी, जीनकूदेवी, कैलाश, सुशील कुमार तथा भागूरामद्वारा  बालाजी मन्दिरमें दीपक जलानेको लेकर धर्मान्ध सद्दाम, शाहरुख, जावेद, अरशद, एजाज, जाबिरने पहले उन्हें रोका, तत्पश्चात उनपर पत्थरोंसे आक्रमण आरम्भ कर दिया | रूकमानंद सहित सैनी परिवार भयभीत हो गया तथा चिल्लाने लगा। इससे वे चोटिल भी हो गए | उनका स्वर सुनकर ग्रामीण इकट्ठा हो गए | ग्रामीणोंके आनेपर सभी भाग गए । प्रकरणकी जानकारी मिलनेपर फतेहपुर डीएसपी ओमप्रकाश किलानियांके नेतृत्वमें पुलिसने एक धर्मांधको बन्दी बनाया है तथा अन्य पकडसे बाहर हैं ।

           – यह प्रकरण बताता है कि यदि आपने भाईचारेमें धर्मान्धोंको अपने गांवमें रखा है और बसाया है तो कभी न कभी ऐसी स्थिति आएगी कि आप अपने देवताके मन्दिरमें दीप भी नहीं जला पाएंगें आशा है सीकरके वासी इससे सीख लेंगें और कथित धर्मनिरपेक्षताका त्यागकर आगे आएंगें ! सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

 स्रोत : ऑप इंडिया 

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution