मन्दसौरमें किसानोंपर गोलीबारीको जांचमें बताया न्यायसंगत !


जून २०, २०१८

गत वर्ष जूनमें मन्दसौर किसान आन्दोलनमें मृत छह किसानोंकी मृत्युके पश्चात बनी न्यायिक जांच समितिने अपने विवरणमें पुलिस और ‘सीआरपीएफ’को दोषमुक्त किया है ! जांचमें किसानोंपर गोलीबारीको पूर्ण रूपसेे नितान्त आवश्यक और न्यायसंगत बताया है ! जेके जैन आयोगका यह विवरण गत सप्ताह राज्य सरकारको भेज दिया गया है । विवरणमें बताया गया है कि समाज विरोधी तत्वोंने बही पार्श्वनाथ गावंके समीप आन्दोलनको सम्भाला; क्योंकि किसी भी नेताने किसानोंको उपजका सही मूल्य और ऋण मुक्तिके समर्थनमें उन्हें सडकोंपर उतरनेके लिए प्रेरित नहीं किया था । इस मध्य दो प्रदरशनकारी बही पार्श्वनाथमें पुलिस गोलीबारीमें मारे गए, जबकि छह जूनको तीन प्रदर्शनकारी पिपलियामण्डीके बाहर मारे गए !

विवरणमें आगे लिखा गया है कि लोगोंके हाथमें लाठियां और शस्त्रोंके अतिरिक्त, लोहेकी छडे, ‘पेट्रोल’से भरी बोतलें थी ! भीडमें कुछ लोग ‘चक्का जाम’में सम्मिलित हो गए । बादमें उन्होंने आठ ‘सीआरपीएफ’के जवानोंको घेर लिया, जो उन्हें रोकनेका प्रयास कर रहे थे । विवरणमें लिखा गया है कि अराजक तत्वोंने जवानोंपर पत्थर और पेट्रोल बम फेंके व मारपीट भी की ! इस मध्य जब सिपाही विवेक मिश्राने, जिनकी पतलून और जूते आगमें जल गए, स्वयंकी रक्षा हेतु जब पानीमें छलांग लगा दी तो भीडने उन्हें बाहर निकाल बन्दूक छीननेका प्रयास किया ।

जेके जैनके विवरणके अनुसार विजय कुमारने दो बार गोलीबारी की, जिसके कारण कन्हैयालाल और पूनमचन्द और बबलूकी मृत्यु हो गई ! ‘एएसआई’ शाहजीने तीन बार और सिपाही अरुण कुमार दो बार गोलीबारी की । विवरण कहता है कि ‘सीआरपीएफ’के जवानों को चोटें नहीं आई; क्योंकि उन्होंने हेलमेट और अन्य सुरक्षा से जुड़े उपकरण पहने थे।

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution