मानव तस्करोंसे मणिपुर पुलिसने सूचना मिलनेपर १२८ युवाओंको छुडाया !


जनवरी ३, २०१९


मणिपुर पुलिसने अन्तर्राष्ट्रीय मानव तस्करोंसे १२८ लडकों और लडकियोंको बचाया है । इम्फालके नगर पुलिसके एसएचओ बॉबीने कहा कि सूचना मिलनेपर, शुक्रवार, ३१ जनवरीको समाज कल्याण विभागके अधिकारियोंके साथ पुलिसने राजधानीके विभिन्न होटलोंसे १०३ लडकियों और पांच लडकोंको बचाया है ।


पुलिसने बताया कि इनमें लगभग ७३ युवा नेपाली थे । अभियानोंकी अध्यक्षता इंफाल पश्चिमी जनपदके उप-खण्डीय पुलिस अधिकारी संदीप गोपाल दासने की । शनिवार प्रातः, कमांडो और पुलिसके एक संयुक्त दलने तेंगनौपाल जनपदमें म्यांमार सीमाके पास मोरे नगरमें विश्रामालयोंपर छापा मारा और पांच लडकियों और १५ लडकोंको बचाया ।

सूत्रोंने बताया कि लडकियोंको अन्य देशोंमें ले जानेसे बचाया गया । १५ लडकोंसे पूछताछ कर यह ज्ञात करनेका प्रयास किया जा रहा है कि उनका अपहरण हुआ था या वे मानव तस्करी गिरोहके सदस्य हैं । ब्यौरेके अनुसार, युवाओंको पहले म्यांमार ले जाना था और वहांसे दुबई और तदोपरान्त इराक !


‘नेटवर्क लाइफलाइन फाउंडेशन’के सचिव एल. पिशकने कहा कि उन्हें कार्यकर्ताओंने युवाओंकी मणिपुरके रास्ते म्यांमारमें तस्करीके बारेमें सचेत कर दिया गया था । इससे पूर्व ३० जनवरीको देहलीके राजीव नगरमें कार्यकर्ताओंद्वारा बचाई गईं छह लडकियोंने बताया कि कुछ लडकों और लडकियोंको म्यांमार ले जाया जा रहा है । तेंगनौपाल जनपद पुलिस अधीक्षक एस. इबोम्चाने कहा, “हम सीमावर्ती नगरके विश्रामालयों और अन्य संदिग्ध घरोंमें छापेमारी जारी रखेंगे ।’

 

“अन्तर्राष्ट्रीय मानव तस्कर क्या होता है ? क्या वे बच्चोंको ओझल करके ले जानेवाले थे ? क्या भारतकी सीमासे किसीको ऐसे ही ले जाया जा सकता है ? यह राज्य शासनकी असुरक्षाके कारण ही है ! यह तो पुलिसको सूचना मिली तो उन्हें पकडा गया; परन्तु क्या इससे पूर्व बच्चे ले जाए नहीं गए होंगें ? अन्यथा तस्कर ऐसा दुस्साहस क्यों करते ? केन्द्र इसमें संज्ञान लें व कार्यवाही करें !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution