कुमारस्वामीके मन्त्री ‘इनोवा’के स्थानपर ‘फॉरच्यूनर’की मांग की !


जून २१, २०१८

कर्नाटकके एक मन्त्रीने गुरुवारको यह कहकर विवाद पैदा कर दिया कि उन्होंने शासकीय प्रयोगके लिए ‘इनोवा’ नहीं, ‘टोयोटा फॉरच्यूनर’की मांग की है; क्योंकि वे ‘बचपन से ही वह बडे वाहनोंमें’ चलने के आदी रहे हैं । उनके इस कथनकी विपक्षी दल भाजपाने आलोचना की है; लेकिन कांग्रेसने इसका बचाव किया है ।
खाद्य और नागरिक आपूर्ति मन्त्री जमीर अहमद खानने कहा कि उन्हें ‘टोयोटा इनोवा’की स्वीकृति दी गई है, जिसे वह ‘कम स्तर’का मानते हैं; इसलिए ‘फॉरच्यूनर’की मांग की है । खान व्यवसायी परिवारसे आते हैं । उन्होंने संवाददाताओंसे कहा, “मैं बचपनसे ही बडे वाहनोंसे चलता रहा हूं । मुझे ‘इनोवा’की स्वीकृति दी गई है । मैं इसे आरामदायक नहीं मानता; क्योंकि मैं हमेशा बडे वाहनोंसे चलता रहा हूं और ‘इनोवा’ छोटे स्तरका वाहन है ।”

उन्होंने कहा, “२-३ ‘एसयूवी’का अभी तक आवण्टन नहीं हुआ है और इनमेंसे एक पूर्व मुख्यमन्त्री सिद्धारमैया प्रयोग करते थे ।”  ‌यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें सिद्धारमैया वाला वाहन चाहिए ? तो इस पर खानने कहा, “क्या यह स्थायी कार है ? ये सभी अस्थायी कार हैं । यहां तक कि सत्ता भी अस्थायी है ।”
मन्त्रीकी मांगपर भाजपा प्रवक्ता एस. प्रकाशने कहा कि खानके पास १०० बडे वाहनोंका समूह है, उन्हें अपने वाहनमें चलना चाहिए । कांग्रेसके राज्यसभा सांसद सैयद नसीर हुसैनने खानका बचाव करते हुए कहा कि मन्त्री किसी विशेष वाहनकी मांग कर रहे हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है । हुसैनने कहा, “समाचार माध्यम अर्थहीन प्रकरणको बढावा दे रहा है । अनुरोध करनेमें क्या गलत है ? यदि कोई मन्त्री, किसी वाहनको लेकर सहज नहीं है तो वह दूसरेकी मांग क्यों नहीं कर सकता ?”

यह पूछे जाने पर कि जब मुख्यमन्त्री एचडी कुमारस्वामी उनकी निजी ‘रेंज रोवर’ वाहनका प्रयोग कार्यालय सम्बन्धी कार्यके लिए करते हैं तो वह शासकीय वाहन क्यों मांग रहे हैं ? इसपर खानने कहा कि वह चाहते हैं कि लोग उन्हें जानें कि वह मन्त्री हैं । खानने कहा, “कुमारस्वामीको हर कोई जानता है, उन्हें परिचयकी आवश्यकता नहीं है । वह बहुत लोकप्रिय हैं; लेकिन मैं तो सिर्फ एक मन्त्री हूं । मेरी भी इच्छा है । यह अवसर कठिनाईसे मिलता है !”

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution