‘हनी ट्रैप’में फंसा मेरठ कैंटका फौजी, महत्वपूर्ण सूचनाएं सांझा की !


अक्तूबर १९, २०१८

पाकिस्तानसे आए एक चलभाषने मेरठ सैन्य क्षेत्रमें (कैंटमें) तैनात लगभग २६ वर्षके फौजीको ‘आईएसआई’के चंगुलमें फंसा दिया । मिली सूचनाके अनुसार जवानके पास पहले पाकिस्तानके एक चलभाष क्रमांकसे फोन आया, तत्पश्चात उसने जवानको ‘व्हाट्सएप’पर ले लिया और सन्देश भेजना आरम्भ हो गया । बातचीत जासूसी तक जा पहुंची । फौजी कंचन सिंहकी आयु लगभग २७ वर्ष है ।

सूत्रोंके अनुसार पाकिस्तानी गुप्तचर दलाल फौजके जवानों और युवाओंको चलभाषकेद्वारा चंगुलमें लेते हैं । साधारणतया इसके लिए मधुर आवाज वाली सुन्दर महिलाओंको प्रयोग किया जाता है । यह महिलाएं फोन करती हैं और फिर ‘व्हाट्सएप’पर जोडकर सन्देश भेजना आरम्भ करती हैं, तत्पश्चात यह प्रकरण ही ब्रेन वॉश तक ले जाता है । सूत्रोंके अनुसार प्रथम बार सेनाके इस जवानके पास भी पाकिस्तानसे एक चलभाष आया, दूसरी ओर आवाज महिलाकी ही थी । इसके पश्चात सन्देश भेजना आरम्भ हुआ और चित्रोंका आदान-प्रदान भी ! ‘आईएसआई’ दलालोंने जवानको इसप्रकार चंगुलमें ले लिया कि वह बेबस हो ब्रेन वॉशकी स्थिति तक चला गया । ‘आईएसआई’ दलालने उसे जो कहा वह करता चला गया । कैंट क्षेत्रके चित्रोंका आदान-प्रदान और अन्त गुप्त सूचनाएं भी सांझा होने लगीं । जांच विभागके पास यह भी समाचार है कि इसमें पैसेका भी लेनदेन हुआ ! सम्भवत: फौजीके कुछ खातोंमें ऑनलाइन पैसा भेजा गया !

 

यह भी देखा जा रहा है कि कंचन सिंहने कहीं फर्जी नामोंसे फेसबुक आईडी तो नहीं बना रखी हैं, जिनसे वह ‘आईएसआई’ दलालोंको सूचनाएं भेजता हो । मेरठ सहित पश्चिमी उत्तरप्रदेशमें ‘आईएसआई’का बडा जाल है ।

 

उत्तराखण्डके बागेश्वरके बिलौनी गांवका रहने वाला यह फौजी अविवाहित है । बिलौनी एक ऐसा गांव है, जो बागेश्वरसे सटा है और यहां खेती-मजदूरी करने वाले निर्धन लोग रहते हैं । कंचन सिंह भी आर्थिक रूपसे निर्धन परिवारसे फौजमें आया । माना जा रहा है कि उसकी इसी दुर्बलताका आईएसआई दलालोंने लाभ उठाया ।

“ वस्तुतः ऐसी घटनाओंका मूल क्या है ? धर्मशिक्षण व राष्ट्रप्रेमका अभाव, जो आधुनिक मैकॉले प्रणालीमें नहीं सिखाया जाता ! युवा केवल सतही ज्ञानकी पुस्तकें पढकर आते है और सर्व अनुचित कृत्य करते हैं !- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ


स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution