सहस्त्रों वर्षों से प्रताडित हिन्दू हों एकजुट !


सितम्बर ९, २०१८

अमेरिकाके शिकागोमें विश्व हिन्दू सम्मेलनको सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघके प्रमुख मोहन भागवतने हिन्दू समुदाय से एकजुट होनेका आह्वान किया । उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज एकजुट होकर मानव कल्याणके लिए कार्य करे ।
धर्म संसदमें स्वामी विवेकानन्दके ऐतिहासिक भाषणकी १२५वीं वर्षगांठके अवसरपर आयोजित विश्व हिन्दू सम्मेलनमें लगभग २५०० लोगोंको सम्बोधित करते हुए भागवतने कहा कि हिन्दू समाजमें प्रतिभावान लोगोंकी संख्या सबसे अधिक है; लेकिन वे कभी साथ नहीं आते हैं ! भागवतने कहा कि हिन्दुओंका साथ आना अपने आपमें विकट है !
ऐसा कहते हुए भागवतने यह भी कह दिया कि हिन्दू सहस्त्रों वर्षोंसे प्रताडित हो रहे हैं; क्योंकि वे अपने मूल सिद्धान्तोंका पालन करना और आध्यात्मिकताको भूल गए हैं । भागवतने जोर देकर कहा कि हमें साथ आना होगा ।

बता दें कि ११ सितम्बर १८९३ को स्वामी विवेकानन्दने शिकागोमें आयोजित विश्व धर्म संसदमें ऐतिहासिक भाषण दिया था, जिसकी १२५वीं वर्षगांठके अवसरपर विश्व हिन्दू सम्मेलनका आयोजन किया गया है । यह सम्मेलन ७-९ सितम्बरके मध्य रखा गया है ।

भागवतने यह भी कहा कि हमारे मूल्य ही आज सार्वजनिक मूल्य बन गए हैं, इसे ही ‘हिन्दू मूल्य’ कहते हैं । प्रत्येक परिस्थितियोंमें हम आध्यात्मिक गुरुकी भांति हैं । उन्होंने कहा कि पैसा ही सब कुछ नहीं होता, हमारे पास ज्ञान और बुद्धि है; लेकिन हमें अपने संस्कार नहीं भूलने चाहिए ।

 

“आजका हिन्दू धर्म त्यागकर तथाकथित धर्मनिरपेक्षता, नेता भक्तिमें अपनी शक्ति लगाकर अपना बल और बुद्धि खो बैठा है, तभी तो जिसके नामपर मत लिया जाता है, उन्हीं हिन्दुओंका शोषण बार-बार किया जाता है ।” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution