उत्तरप्रदेशमें पूर्व मुख्यमन्त्रियोंके शासकीय निवास सहित १५७ भवन रिक्त कराएंं !


अगस्त १७, २०१८

उत्तर प्रदेश शासनने आज उच्चतम न्यायालयको सूचित किया कि प्रदेशके पूर्व मुख्यमन्त्रियोंको आवण्टित भवनों सहित उसने १५७ शासकीय भवन रिक्त कराए हैं । प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूडकी पीठको उत्तर प्रदेश शासनके अधिवक्ताने बताया कि शीर्ष न्यायालयके आदेशमें निर्धारित अवधिसे अधिक शासकीय भवनमें रहने वाले व्यक्तियोंको इसमें रहनेका शुल्क देना होगा !

राज्य शासनके अधिवक्ताने कहा, ‘हम शीर्ष न्यायालयके आदेशका पालन कर रहे हैं और अभी तक १५७ आवास रिक्त किए जा चुके हैं । इन भवनोंमें निर्धारित अवधिसे अधिक रहने वाले व्यक्तियोंको इसका शुल्क देना होगा । पीठने राज्य शासनके अधिवक्तासे कहा कि इस सम्बन्धमें दो सप्ताहके भीतर शपथपत्र प्रविष्ट किया जाए । इसमें यह स्पष्ट सूचना दी जाए कि कितने भवन रिक्त हो चुके हैं और अब तक कितना धन वसूला गया है ।


न्यायालयने इसके साथ ही इस प्रकरणको अग्रिम सुनवाईके लिए १७ सितम्बरको सूचीबद्ध कर दिया है । शीर्ष न्यायालयने ११ अप्रैल, २०१७ को उस प्रार्थनापर राज्य शासनसे उत्तर मांगा था, जिसमे पूर्व मुख्यमन्त्रियोंसे शासकीय आवास रिक्त करानेमें विफल रहने वाले प्राधिकारियोंके विरूद्ध कार्यवाहीका अनुरोध किया गया है । शीर्ष न्यायालयने उत्तर प्रदेशके एक अशासकीय संगठन ‘लोक प्रहरी’की जनहित याचिकापर सुनवाईके समय राज्य शासनके सम्पदा निदेशकसे इस सम्बन्धमें उत्तर मांगा था ।

न्यायालयने एक अगस्त, २०१६ को अपने निर्णयमें कहा था कि पूर्व मुख्यमन्त्रियोंको पदसे हटनेके पश्चात अपने भवनको रिक्त कर देना चाहिए । न्यायालयने ऐसे भवनमें निर्धारित अवधिके पश्चात रहने वालोंसे उचित शुल्क लेनेको कहा ।

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution