‘बीएमसी’के भ्रष्टाचारके कारण गिरे मुंबई पुलमें ६ लोगोंकी मृत्यु !


मार्च १५, २०१९
   
मुम्बईके ‘सीएसटी’ रेलवे स्थानकके (स्टेशनके) पास गुरुवार, १४ मार्चकी सन्ध्या एक ‘फुटओवर’ पुल गिर गया । इस दुर्घटनामें ६ लोगोंकी मृत्यु हो गई, जिसमें ३ महिलाएं सम्मिलित हैं । वहीं, ३३ लोग चोटिल भी हुए हैं, जिन्हें चिकित्सालय पहुंचाया गया है ।

शुक्रवार, १५ मार्चको मुख्यमन्त्री फडणवीस घटनास्थलपर पहुंचे, इस मध्य इसका जांच ब्यौरा भी सामने आया है, जिसमें ‘बीएमसी’की अनदेखी ज्ञात हुई है । आरम्भिक ब्यौरेकी मानें तो इस पुलकी जांच कुछ ही समय पूर्व हुई थी, जब अंधेरीमें एक पुलका भाग गिरा था । ये पुल १९८१ में बना था और तभीसे ‘बीएमसी’के अधीन था ।

ब्यौरेके अनुसार, जांचके पश्चात बीएमसीको कुछ सुधार करनेको कहा गया था; परन्तु उसे ठीक नहीं किया गया था । यदि सुधार नहीं हुआ था तो पुलको रोक सकते थे । बताया ये भी जा रहा है कि पुलके ‘गार्डर’पर जंग लगा हुआ था, इसी कारणसे पुल नीचे गिरा !

इस दुर्घटनाके पश्चात महाराष्ट्र शासनने उच्च स्तरीय जांचकी मांग की है । प्रकरणमें आजाद मैदान पुलिस स्टेशनमें ‘आईपीसी- धारा ३०४ ए’के (अनदेखीसे मृत्यु) तहत मध्य रेलवे और बीएमसीके सम्बन्धित अधिकारियोंके विरुद्घ प्राथमिकी प्रविष्ट की गई है ।

जानकारीके अनुसार मुम्बईके सीएसटी रेलवे स्थानकपर गुरुवार सन्ध्या जब लोग अपने घरकी ओर लौट रहे थे, तभी स्‍टेशनसे बाहरका फुटओवर पुलका एक भाग गिर पडा । दुर्घटनामें दो महिलाओं, अपूर्वा प्रभु और रंजना तांबे सहित छह लोगोंकी मृत्यु हो गई, जबकि ३२ लोग गम्भीर रूपसे चोटिल हो गए । लोगोंकी चीख-पुकार सुन लोगोंने तुरन्त बचाव कार्य आरम्भ कर दिया ।

बीएमसी आपदा प्रबन्धनने आपातकालीन सहायक चलभाष क्रमांक जारी किया है । पीडित परिवार १९१६, ९८३३८०६४०९, ०२२-२२६२१८५५, ०२२-२२६२१९५५ पर दुर्घटनासे जुडी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं । इसके साथ ही मुख्यमन्त्रीने मृतकोंके परिजनोंके लिए ५ लाख और चोटिलोंको ५० सहस्र रुपये सहायता राशि देनेकी घोषणा की ।

बताया जा रहा है कि यह पुल ३० वर्षसे भी अधिक प्राचीन है । घटनाके पश्चात महाराष्ट्रके मुख्यमन्त्री देवेन्द्र फडणवीस घटनास्थलपर पहुंचे और दुर्घटनाकी उच्चस्तरीय जांचके आदेश दिए ।

 

“भारतमें प्रायः ऐसा देखा जाता है कि शासक गणों व कर्मियोंके कारण अनेकानेक लोगोंको अपने प्राण खोने पडते हैं और हमारे नेतागण उसपर सहायक राशिकी छाप लगाकर निकल लेते हैं । क्यों नहीं बीएमसी व उनके उच्च अधिकारियोंपर हत्याका प्रत्यक्ष दोषारोपण लगाना चाहिए व उस मन्त्रीपर भी क्यों नहीं, जिसके अधीन ‘बीएमसी’ कार्यरत है । कैसे नेतागण अपने उत्तरदायित्वसे बचकर निकल सकते हैं, इसका उत्तरदायित्व निर्धारित होना चाहिए और यह सब न होना ही इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है कि अराजकता व भ्रष्टाचार भारतकी एक-एक कणमें व्याप्त हो चुका है । इस लोकतन्त्र व इसके संरक्षकोंने तो अपनी बुद्धिसे उपाय करके देखे हैं; परन्तु सभी आधारहीन व निष्फल ही निकले हैं; अतः अब धर्मराज्यकी स्थापनाकर ही इस समस्याका मूल सहित निवारण किया जा सकता है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : न्यूज १८



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution