पाक कलाकारोंको काम देनेवालोंपर प्रतिबन्ध लगाएगा ‘फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इम्प्लाइज’ !


फरवरी १७, २०१९


पुलवामा आक्रमणके विरोधमें ‘फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इम्प्लाइज’के (एफडब्लूआइसीईके) मुख्य परामर्शदाता अशोक पण्डितने पाकिस्तानके सभी कलाकारोंपर प्रतिबन्ध लगानेका आह्वान किया । उन्होंने कहा कि जो चलचित्र निर्माता पाकिस्तानी कलाकारोंके साथ काम करनेके लिए दबाव बनाएंगे , ‘एफडब्लूआइसीई’ उनपर भी प्रतिबन्ध लगाएगी । इस मध्य, २४ चलचित्र संगठनोंने गोरेगांवके फिल्मसिटीमें विरोध-प्रदर्शन किया है । इसमें अमिताभ बच्चन और वीरेंद्र सहवाग आदि भी सम्मिलित हुएं ।

अशोक पंडितने रविवार, १७ फरवरीको कहा कि वह आधिकारिक रूपसे यह आदेश सुना रहे हैं । वह संगीत कंपनियां, जो सीमा पारसे निरन्तर जारी आतंकी आक्रमणोंके पश्चात भी पाकिस्तानी कलाकारोंके साथ काम करनेपर बल देती हैं, उन्हें लज्जा आनी चाहिए; परन्तु वह कोई लज्जा नहीं दिखा रही हैं; इसलिए हमें कडे पग उठाने होंगें ।

पंडितने कहा कि पाकिस्तानी आतंकियोंके आक्रमणके पश्चात भारतमें चलचित्र उद्योग पाकिस्तानी कलाकारोंको प्रतिबन्धित कर देता है; परन्तु लंबा समय व्यतीत होनेपर  वे पुनः पुराने ढर्रेपर चलने लगते हैं ।

‘एफडब्लूआइसीई’ और २४ अन्य चलचित्र और दूरदर्शन उद्योगके संगठनोंने आतंकी आक्रमणके विरुद्घ रविवार, १७ फरवरीको हुतात्माओंको श्रद्धांजलि देनेके लिए फिल्म सिटी द्वारपर दोपहर दो बजेसे सन्ध्या चार बजेतक विरोध यात्रा की । अभिनेता अमिताभ बच्चन, पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग, हरभजन सिंह, सुरेश रैना और वीवीएस लक्ष्मणने भी स्वेच्छासे दो घंटेके लिए अपना काम बंद कर दिया ।

प्रदर्शनमें सम्मिलित हुए सहवागने कहा कि हमारे सैनिकोंके लिए हम जो भी करें वह अल्प है । वहीं, हरभजन सिंहने कहा कि सैनिकोंका बलिदान बेकार नहीं जाएगा । क्रिकेटर और अभिनेता कोई नायक नहीं हैं । वास्तविक नायक तो हमारे सैनिक ही हैं ।

भाजपा सांसद परेश रावलने भारतीय समाचार माध्यमोंसे अपने कार्यक्रमपर किसी पाकिस्तानी अतिथिको न बुलानेकी विनती की है । उन्होंनें कहा कि भारतमें विष उगल रहे पाकिस्तानी लोगोंपर प्रतिबन्ध लगाया जाना चाहिए ।

 

“यह लज्जाका विषय है कि पाकिस्तान आरम्भसे ही भारतके विरुद्घ विष उगलता रहा है; परन्तु लज्जाहीन चलचित्र जगत पाकिस्तानी अभिनेताओं और गायकोंको भारतमें काम देते हैं और न केवल काम देते हैं वरन भारतीय गायकोंको भी नकार देते हैं । चलचित्र जगत ऐसा कृत्य बन्द करें, अन्यथा सभी हिन्दू इनका पूर्णतया बहिष्कार करें !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : जागरण



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution