पश्चिम बंगाल में ‘जेहादी गतिविधि’, हिंदुओं की ‘घटती’ जनसंख्यासे संघ व्यथित


कोयंबटूर: राष्ट्रीय स्ववंसेवक संघ (आरएसएस) ने पश्चिम बंगाल में ‘बढ़ती जेहादी गतिविधियों’ और ‘घटती’ हिंदू जनसंख्या पर मंगलवार को चिंता जतायी और अपने कार्यकर्ताओं से आग्रह किया कि वे राज्य सरकार की ‘साम्प्रदायिक राजनीति’ के विरुद्ध जागरूकता उत्पन्न करें.

आरएसएस ने साथ ही राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर अपनी ‘मुस्लिम वोटबैंक राजनीति’ के चलते राष्ट्रविरोधी तत्वों को ‘बढावा’ देने का आरोप लगाया. आरएसएस के निर्णय करने वाले शीर्ष निकाय ‘अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा’ (एबीपीएस) की तीन दिवसीय बैठक में पारित प्रस्ताव में चरमपंथी हिंसा की भी निंदा की गई.

 आरएसएस के संयुक्त महासचिव दत्तात्रेय होसबोले ने बैठक में चर्चा के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘यह (पश्चिम बंगाल में हिंदुओं की कम होती जनसंख्या) देश की एकता एवं अखंडता के लिए गंभीर चिंता का विषय है.’ प्रस्ताव में कहा गया एबीपीएस ‘चरमपंथी हिंसा और राज्य सरकार की मुस्लिम तुष्टिकरण नीति की निंदा करती है और देशवासियों का आह्वान करती है कि वे जेहादी हिंसा और राज्य सरकार की साम्प्रदायिक राजनीति के खिलाफ जागरूकता उत्पन्न करें.’

हिन्दू आबादी घटी:

होसबोले ने कहा कि बंटवारे के बाद पूर्वी पाकिस्तान से हिंदुओं को पश्चिम बंगाल में शरण लेने के लिए बाध्य किया गया. उन्होंने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि इतने बड़े पैमाने पर प्रवेश के बावजूद राज्य की जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार गिरकर 70.54 प्रतिशत पर आ गई जो कि 1951 में 78.45 प्रतिशत थी. उन्होंने कहा कि बैठक राज्य सरकार का भी आह्वान करती है कि वह ‘क्षुद्र वोटबैंक की राजनीति’ से उपर उठे और अपने संवैधानिक दायित्वों का पालन करे.

 जेहादी तत्वों की गतिविधियां बढ़ी:

होसबोले ने केंद्र से भी आग्रह किया कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में राज्य में राष्ट्रविरोधी जेहादी तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित करे. होसबोले ने पिछले कुछ वर्षों में पश्चिम बंगाल में सामने आये बम विस्फोट, आगजनी, हिंसा और ‘महिलाओं से छेड़छाड़’ की कई घटानाओं को सूचीबद्ध करते हुए कहा कि हिंदू समाज में इन अत्याचारों का सबसे अधिक कष्ट अनुसूचित जाति के सदस्यों पर पड़ा है.

उन्होंने कहा, ‘हिंदुओं पर पूर्व नियोजित हमला किया गया जिसके परिणामस्वरूप धुलागढ़ में 13 दिसम्बर 2016 को आगजनी, लूट और महिलाओं से छेड़छाड़ की भयंकर घटनाएं हुई.’ होसबोले ने कहा, ‘एक ओर राज्य सरकार उन स्कूलों को बंद करने की धमकी दे रही है जो राष्ट्रवाद की भावना उत्पन्न कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उसने कुख्यात सिमुलिया मदरसा जैसे हजारों संस्थानों पर आंखे बंद कर रखी हैं जहां जेहादी और कट्टरपंथी प्रशिक्षिण दिया जाता है.’

ममता बनर्जी सरकार पर निशाना:

पश्चिम बंगाल में हिंदुओं पर और केरल में भाजपा कार्यकर्ताओं पर बढ़ते हमलों के आरएसएस के आरोप पर होसबोले ने राज्य सरकार पर पश्चिम बंगाल में जेहादियों का समर्थन करने का आरोप लगाया. उन्होंने केरल में स्थिति ‘चिंताजनक’ बताते हुए कहा कि एलडीएफ की विधानसभा चुनाव में जीत के बाद आरएसएस और उससे जुड़े संगठनों के कार्यकर्ताओं पर हमलों में अचानक वृद्धि हुई है.

आरएसएस के एक पदाधिकारी द्वारा केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन के सिर के लिए एक करोड़ रुपये इनाम घोषित करने को लेकर विवाद पर आरएसएस के मीडिया प्रभारी मनमोहन वैद्य ने कहा कि व्यक्ति ने अपनी गलती स्वीकार कर ली थी और अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

होसबोले ने कहा, ‘आरएसएस ऐसी गतिविधियों का समर्थन नहीं करता.’ विजयन का हैदराबाद की तरह ही विभिन्न सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यक्रमों में विरोध जारी रखने की योजना पर उन्होंने कहा कि आरएसएस ने मुद्दा उठाया है और माकपा कार्यकर्ता ‘जनता का मूड’ पढ़ने के लिए पर्याप्त ‘समझदारी’ दिखाएंगे.

ऐसे समय जब देशभर में विश्वविद्यालय परिसरों में अशांति की घटनाएं बढ़ी हुई हैं एबीपीएस की बैठक के लिए एक विश्वविद्यालय को स्थल के रूप में चुने जाने संबंधी एक सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं है जब ऐसी बैठक देश के किसी विश्वविद्यालय परिसर में हो रही है.

एबीपीएस की बैठक पहली बार तमिलनाडु में आयोजित हुई और इसका आयोजन यहां अमृता विश्वविद्यालय में किया गया. होसबोले ने यह भी सूचित किया कि विश्वविद्यालय की संस्थापक माता अमृतानंदमयी सुबह बैठक वाले सभागार में आयी और प्रतिभागियों को आशीर्वाद दिया.

तमिलनाडु विशेष तौर पर कोयंबटूर को बैठक के स्थल के तौर पर चुने जाने पर उन्होंने कहा कि आरएसएस का तमिलनाडु विशेष तौर पर दक्षिणी हिस्से में विस्तार हुआ है. बैठक में प्रांतीय आरएसएस इकाइयों के प्रमुखों के साथ ही करीब 1400 निर्वाचित प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया जिसमें आरएसएस की विभिन्न इकाइयों की गतिविधियों पर चर्चा हुई.

सौजन्यसे : http://zeenews.india.com



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution