नवरात्रके समय होनेवाली चूकोंको टालकर भावपूर्वक करें साधना (भाग-३)


नवरात्रके समय कुछ स्त्रियां नवकार मन्त्रका जप करती हैं । नवकार मन्त्र तेज तत्त्वसे सम्बन्धित होनेके कारण यदि कोई स्त्री जिसका आध्यात्मिक स्तर बहुत उच्च न हो तो उसे कष्ट भी हो सकता है; विशेषकर उसे जननेन्द्रियोंसे सम्बन्धित कष्ट हो सकते हैं । वहीं यदि पुरुषका भी उच्च आध्यात्मिक स्तर न हो तो उसे भी इसके बहुत अधिक जपसे कष्ट हो सकता है । इसलिए ‘श्रीदुर्गा देव्यै नमः’ का जप करना अधिक उचित होगा ।
उसी प्रकार चण्डीपाठका उच्चारण भी यदि अयोग्य हुआ तो उससे भी कष्ट हो सकता है । इसलिए समाजको धर्म और अध्यात्मका ज्ञान देना अति आवश्यक है ।



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution