‘एनडीटीवी’की पत्रकारकी राष्ट्रद्रोहिता, पुलवामा आक्रमणपर किया आतंक समर्थित ‘ट्वीट’, कहा ‘हाउज द जैश’ !!


फरवरी १५, २०१९


पुलवामामें हुए आतंकी आक्रमणको लेकर आपत्तिजनक पोस्ट करनेपर देहलीमें ‘एनडीटीवी’ समाचार वाहिनीके लिए कार्य करनेवाली एक पत्रकारको निलम्बित कर दिया गया है ।

‘एनडीटीवी’में सहायक समाचार सम्पादक कार्यरत निधि सेठीने पुलवामा आक्रमणको लेकर ‘फेसबुक’पर टिप्पणी की थी । इसमें वह स्पष्ट रूपसे प्रतिबन्धित आतंकी संगठन ‘जैश-ए-मोहम्मद’के कृत्यका एकप्रकारसे समर्थन करती दिख रही थीं । उन्होंने अपना लेख  ‘#HowstheJaish (हाउ इज द जैश)’के ‘हैशटैग’के साथ किया था !

इसके पश्चात वह उपभोक्ताओंके लक्ष्यपर आ गई थीं । उपभोक्ताओंने ‘जैश-ए-मोहम्मद’के आक्रमणकी कथित प्रशंसा करनेके लिए निधि सेठीकी आलोचना की ।
निधिने पुलवामा आक्रमणके पश्चात लिखा, ‘’मिथकीय ५६ की तुलनामें भयानक ४४ बडी संख्या सिद्ध हुई है ।” इसके साथ निधिने ‘#HowstheJaish (हाउ इज द जैश)’का हैशटैग प्रयोग किया । यह वही उपवाक्य है, जिसका प्रयोग आतंकी संगठनसे सहानुभूति रखनेवाले करते हैं । इसीका प्रयोग करनेवाले अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटीके एक छात्रके विरुद्घ प्राथमिकी प्रविष्ट हुई है ।

उधर, इसके पश्चात ‘एनडीटीवी’ने अपने आधिकारिक ‘ट्विटर’से एक वक्तव्य जारीकर कहा कि वे अपने सम्पादकद्वारा की गई इसप्रकारकी टिप्पणीकी निंदा करते हैं । उन्हें दो सप्ताहके लिए निलम्बित कर दिया गया है ।

इस टिप्पणीके पश्चात कई उपभोक्ताओंने समाचार वाहिनीके विरुद्घ कार्यवाही किए जानेकी मांग की है ।

 

“अभिव्यक्तिकी स्वतन्त्रताके नामपर एक बडे समाचार माध्यमकी उपसम्पादक इसप्रकारका घृणित कृत्य कर सकती हैं तो आतंकी समर्थकोंको क्या कहें ? जब एक उपसम्पादकके मनमें प्रधानमन्त्रीके प्रति इतना विष है कि उन्हें इसका ज्ञान नहीं कि क्या बोलना है और क्या नहीं ? किसका कब प्रयोग करना है ? तो सम्पादक कैसा और वह देशको क्या सत्यसे अवगत कराएगा ?, यह संदेहास्पद ही है ! एक ऐसी घटना जब समूचे राष्ट्रको एक खडा होना चाहिए तब ये घृणित ‘हाउज द जैश’का प्रयोग करते हुए इन्हें लज्जा नहीं आती है ! समाचार माध्यमोंको उच्चतम न्यायालयने इतनी भी स्वतन्त्रता नहीं दी है कि अभिव्यक्तिकी स्वतन्त्रताके नामपर उहें कुछ भी लिखनेकी आज्ञा दी जा सके ! गत कुछ समयमें समाचार माध्यमोंमें भी राष्ट्रद्रोहियोंकी संख्या बढी है । ऐसा घृणित कृत्य पुनः न हो, इस हेतु शासनको इन्हें पूर्णतया प्रतिबन्धित करना चाहिए और यदि समाचार माध्यम यदि पत्रकारपर पूर्णप्रतिबन्धकी कार्यवाही न करें तो उसे भी बन्द करना चाहिए !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : माय नेशन 

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution