नेपालको हिन्दू राष्ट्र बनानेके लिए भारतकी सहायता आवश्यक ! – डॉ. भोलानाथ योगी, हिन्दू विश्वविद्यालय, नेपाल


१७ जून, २०२२
      ‘नेपालमें ९५ प्रतिशत हिन्दू हैं; परन्तु पाश्चात्योंके प्रभावके कारण अब वहांपर ‘टोपी’के स्थानपर ‘टाइ’को महत्त्व दिया जा रहा है । चाकरीके (नौकरीके) निमित्त पश्चिमी देशोंमें जानेके कारण नेपालमें पाश्चात्य सभ्यताका प्रभाव बढ रहा है; इसलिए वहां अब हाथोंसे भोजन करना असभ्य समझा जाता है । पाश्चात्य सभ्यताका प्रभाव बढा है, तो भी नेपाल आज भी भारतीय संस्कृतिसे जुडा है । वर्तमानमें नेपालमें १० सहस्र (हजार) नागरिक भारतके धार्मिक क्षेत्रोंका दर्शन करनेके लिए भारत आते हैं; परन्तु यह सब हिन्दू संगठित नहीं हैं । इसलिए नेपाल साम्यवादी और नास्तिकतावादियोंका ‘अड्डा’ बन गया है । नेपाल सांस्कृतिक दृष्टिसे हिन्दू राष्ट्र ही है; परन्तु संविधानसे मान्यता प्राप्तकर उसका हिन्दू राष्ट्र बनना आवश्यक है । नेपाली जो ‘टोपी’ डालते हैं वह हिमालयका प्रतीक है । नेपालमें चलनेवाले नोटोंपर भगवान गोरखनाथका चित्र है । नेपालमें आज भी ईसाई ‘कैलेंडर’ नहीं चलता है, वहांपर हिन्दू पंचांगका उपयोग किया जाता है । नेपाल धार्मिक दृष्टिसे हिन्दू राष्ट्र ही है । संवैधानिक रूपसे हिन्दू राष्ट्र बननेके लिए हमें भारतसे सहायताकी आवश्यकता है ।’ ऐसा प्रतिपादन नेपालके हिन्दू विश्वविद्यालयके डॉ. भोलानाथ योगीने किया । वह अधिवेशनके छठे दिनके ‘विदेशी हिन्दुओंका रक्षण’ इस सत्रके ‘पाश्चात्य सभ्यताके प्रभावके कारण नेपालमें हिन्दू संस्कृतिकी हो रही हानि’, इस विषयपर बोल रहे थे ।
         डॉ. भोलानाथ योगीजीका वक्तव्य पूर्णतः उचित है । पाश्चात्योंके प्रभावके कारण ही नेपाल जैसे देश भी अपनी संस्कृति और सभ्यताको खोते जा रहे है । अब समय है कि भारतके हिन्दू संगठित हो और नेपाल जैसे हिन्दू राष्ट्रोंकी अधिकाधिक सहायता हेतु तत्पर रहे । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution