भेडके मांसके स्थानपर दिया गौमांस; युवकने शुद्धि करवानेके लिए मांगा भारत जानेका व्यय !


मार्च १२, २०१९

न्यूजीलैंडके साउथ आइलैण्डमें रहनेवाले जसविंदर पालने एक क्रय-विक्रय भण्डारसे (सुपरमार्केटसे) दण्डके रूपमें भारत आने-जानेका व्यय मांगा है । उनका आरोप है कि सिंतबरमें उन्होंने ‘ब्लेनहाइम काउंटडाउन मार्केट’से लैंब मीट (भेडका मांस) क्रय किया था; परन्तु उसे खानेके पश्चात ज्ञात हचा कि बीफ (गाेवंशका मांस) दे दिया गया । जसविंदरका कहना है कि अब वह भारत जाकर सन्तोंसे शुद्धि कराना चाहते हैं ।

न्यूजीलैंडकी ‘स्टफ’ जालस्थलसे वार्तामें जसविन्दरने बताया कि हिन्दू धर्ममें गायको एक पवित्र पशु माना गया है और इन्हें मारना पाप होता है । जसविंदरके अनुसार, जबसे उन्होंने गायका मांस खाया है, तभीसे परिवार उनसे बात नहीं कर रहा; इसलिए वे भारत जाकर चार-छह सप्ताहमें शुद्धि कराकर धर्मके मार्गपर आना चाहते हैं ।

जसविंदरका कहना है कि जब उन्हें इसका आभास हुआ तो वे ‘सुपरमार्केट ‘ अर्थदण्ड लेने पहुंचे । यद्यपि, वहां कर्मचारियोंने उनसे क्षमा मांगते हुए २०० डॉलरका (लगभग १४ सहस्र रुपए) एक ‘गिफ्ट वाउचर’ देना चाहा; परन्तु जसविंदरने इसे लेनेसे मना करते हुए भारत आने-जानेके विमानका व्यय मांग लिया ।

इसके पश्चात जसविंदर गत पांच माहसे इस प्रयासमें हैं कि ‘सुपरमार्केट’ उन्हें अर्थदण्ड दे दे । यद्यपि, कई प्रयासके पश्चात अब वे न्यायालयकेद्वारा अर्थदण्ड लेना चाहते हैं । जसविंदरका कहना है कि उनका एक छोटा व्यापार है, ऐसेमें भारत जानेके लिए उन्हें धनका एक बडा भाग व्यय करना पडेगा । यद्यपि, वह एक बडी कम्पनीके विरुद्घ प्रकरणको आगे नहीं घसीटना चाहते; परन्तु और कोई विकल्प नहीं है ।

 

“निधर्मी उद्योगोंका कार्य केवल येन-केन प्रकारसे लाभ अर्जित करना होता है । उनका न ही धर्मसे कोई लेना-देना है और न ही मूल्योंसे; क्योंकि इन सबको परेय रखकर ही आजके लोभी उद्योग फलते-फूलते हैं, जिसके कारण ऐसे कृत्य होते हैं; परन्तु प्रायः ऐसे कृत्य जो उजागर हो रहे हैं, उनसे एक बात स्पष्ट है कि पाश्चात्य तामसिक संस्कृतिमें रहकर धर्मपालन सम्भव नहीं है । अतः हिन्दुओ ! धर्मपालन हेतु स्वदेशमें रहना ही उचित है । कुछ समयके सुखके लिए अपने लोक और परलोकको नष्ट करना मूढता ही कहलाती है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution